ताज़ा खबर
 

अरुण जेटली ने कहा- माल्या 9000 करोड़ रुपए से ज्यादा के कर्ज का भुगतान करें बरना होगी कड़ी कार्रवाई

विजय माल्या जैसे ऋण भुगतान में जान बूझ कर चूक करने वालों को सख्त चेतावनी देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि उन्हें बैंकों को सम्मान से बकाए का भुगतान करना चाहिए अन्यथा वे ऋणदाताओं और जांच एजेंसियों के दबाव का सामना करने के लिए तैयार रहें।

Author नई दिल्ली | March 29, 2016 11:46 AM
vijay mallya debt, vijay mallya debt recovery, kingfisher airlines, arun jaitley, mallya willfull defaulter, punjab national bank, state bank of india, idbi bank, mallya loan case, arun jaitley vijay mallyaवित्तमंत्री अरुण जेटली और शराब कारोबारी विजय माल्या

विजय माल्या जैसे ऋण भुगतान में जान बूझ कर चूक करने वालों को सख्त चेतावनी देते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि उन्हें बैंकों को सम्मान से बकाए का भुगतान करना चाहिए अन्यथा वे ऋणदाताओं और जांच एजेंसियों के दबाव का सामना करने के लिए तैयार रहें।

उन्होंने कहा, मैं व्यक्तिगत मामलों पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता लेकिन मुझे लगता है कि यह उनके (विजय माल्या) जैसे बड़े समूहों की जिम्मेदारी है कि वे बैंकों को सम्मानपूर्वक भुगतान करें। उन्होंने कहा कि बैंकों के पास विजय माल्या की समूह कंपनियों की कुछ परिसंपत्तियां गिरवी पड़ी हैं और वे 9,000 करोड़ रुपए से अधिक ऋण की वसूली के लिए कानूनी कार्रवाई करेंगे।

उन्होंने कहा, बैंकों के पास कुछ प्रतिभूतियां हैं। बैंक और अन्य एजेंसियों के पास कानूनी कार्रवाई के जरिए कुछ दबाव डालने वाले तरीके हैं .. संबद्ध एजेंसियां इनकी जांच कर रही हैं। लंबे समय से बंद पड़ी किंगफिशर एयरलाइन्स के प्रवर्तक माल्या पिछले दो मार्च को भारत छोड़कर बाहर चले गए थे और ऐसा अनुमान है कि वह लंदन में हैं।

माल्या ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की अपनी समूह कंपनियों से ऋण वसूली के संबंध में उच्चतम न्यायालय में दायर याचिका की सुनवाई से कुछ दिन पहले देश छोड़ा था। माल्या और किंगफिशर एयरलाइन्स पर भारतीय स्टेट बैंक के नेतृत्व वाले 17 बैंकों के कंसोर्टियम का 7,800 करोड़ रुपया बकाया है।

उन्होंने कहा, मुझे लगता है कि वसूली न किए जा सकने वाले ऋण (एनपीए) की समाधान प्रक्रिया अब शुरू होगी। मैंने हमेशा कहा है कि एनपीए दो तरह के होते हैं। एक एनपीए आर्थिक माहौल के कारण होता है, उद्योग के किन्हीं खंडों में नुकसान के कारण। अब हम उन क्षेत्रों के समाधान की कोशिश कर रहे हैं।

Next Stories
1 पंजाब में वंशवाद: बेटा फ्लॉप हुआ, बेटी ने रुचि नहीं दिखाई तो अमरिंदर सिंह ने लंदन से पढ़े नाती पर लगाया दांव
2 यूपीटीईटी 2016 रिजल्‍ट घोषित, 1.46 लाख अभ्‍यर्थी हुए पास, परिणाम जानने के लिए क्लिक करें
3 Pathankot Attack: विरोध-प्रदर्शन के बीच एयरबेस पहुंचा पाकिस्‍तान का जांच दल
ये पढ़ा क्या?
X