ताज़ा खबर
 

दिल्ली में सब्जियों और दालों के बढ़ते दाम ने रुलाया

राजधानी दिल्ली में सब्जियों के दाम कम होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। बीते साल इन दिनों में जिन सब्जियों के दाम 10 से 12 रुपए किलो थे, इस समय उनके दाम 30 से 40 रुपए हो रहे हैं। खुदरा बाजार में दालों और सब्जियों के दाम...

Author June 8, 2015 9:57 AM
दिल्ली में सब्जी बेचता एक विक्रेता। (फाइल फोटो)

नरेंद्र भंडारी

बीते जमाने के मशहूर गीत- दाल रोटी खाओ.. प्रभु के गुण गाओ, को लोगों ने अब गुनगुनाना बंद कर दिया है। इसकी वजह गीत की धुनें खराब होना नहीं बल्कि गीत के वे बोल हैं, जिसे गुनगुनाने से पहले अब सोचना पड़ता है कि दालों की आसमान छूती कीमतों को देखते हुए इसे गुनगुनाए या नहीं। इधर राजधानी में सब्जियों के दाम कम होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। बीते साल इन दिनों में जिन सब्जियों के दाम 10 से 12 रुपए किलो थे, इस समय उनके दाम 30 से 40 रुपए हो रहे हैं। खुदरा बाजार में दालों और सब्जियों के दाम लगातार बढ़ रहें हैं। घरों में दाल रोटी से खाना भी आम परिवारों को भारी पड़ रहा है। महंगी सब्जी से भी प्रत्येक घर का बजट बिगड़ रहा है।

आम घरों में दिन में एक बार इस पर चर्चा आमतौर पर होती है कि आज घर में सब्जी बने या फिर दाल। घर की रसोई से प्रत्येक घर का रोज का नाता रहता ही है। इन दिनों रसोई में इस्तेमाल होने वाले खाने पीने के सामान के दाम आसमान छू रहे हैं। दिल्ली में महंगाई अपने पिछले सभी रेकार्डों को तोड़ने की ओर है। दिल्लीवासी अपनी रसोई में अच्छे दिनों का अभी भी इंतजार कर रहे हैं।

खुदरा बाजार में बीते दो माह से दालों की कीमतों में लगातार उछाल आ रहा है। ज्यादातर दालों की कीमतों में 30 से 40 रुपए प्रति किलो की बढ़ोतरी हुई है। बाजार में अरहर की दाल जो करीब दो महीना पहले 90 रुपए किलो में मिलती थी, वह 130 रुपए किलो में बाजार में मिल रही है। चने की दाल की कीमत 60 रुपए से बढ़कर 85 रुपए प्रति किलो हो गई है। मलका दाल की कीमत 55 रुपए से बढ़कर 85 रुपए हो गई है। मूंग धुली दाल की कीमत 100 रुपए से बढ़कर 130 रुपए प्रति किलो हो गई है। मसूर की दाल 90 रुपए से बढ़कर 130 रुपए किलो, राजमा की कीमत 90 रुपए से बढ़कर 145 रुपए प्रति किलो हो गए हैं। इसी तरह काले चने की कीमत 55 रुपए से बढ़कर 85 रुपए हो गई है। खुदरा बाजार में दालों की लगातार बढ़ रही कीमतों पर नियंत्रण नहीं हो रहा है।

फुटकर बाजार में इसी तरह से सब्जी, फल आदि के दाम लगातार उंचाईयों की ओर हैं। लगातार सब्जी और फलों के बढ़ रहे दामों से परिवार के सदस्यों के चेहरों पर चिंता की लकीरें देखी जा सकती हैं और मेज पर आ रही खान-पान की चीजों का जायका भी बिगड़ रहा है। अब एक नजर सब्जियों के दामों की ओर देखें तो गृहणियों को सोचना पड़ता है कि कौन सी सब्जी पकाएं। सबसे पहले टमाटर के दामों को देखें तो उसके लगातार बढ़ रहे दाम प्रत्येक को हैरत में डालने वाले हैं। राजधानी में फुटकर दुकानों पर टमाटर 40 रुपए से लेकर 50 रुपए प्रति किलो में बिक रहा है। इसके लगातार बढ़ रहे दामों पर कोई नियंत्रण भी नहीं कर पा रहा है। शीतकालीन मौसम में बाजार में टमाटर पहले करीब 10 रुपए किलो बिकता रहा है।

दिल्ली में अन्य सब्जियों के दाम भी आसमान छू रहे हैं। प्याज के दाम भी 35 रुपए से 40 रुपए किलो पर पहुंच गए। भिंडी के दाम 50 रुपए किलो पर पहुंच गए हैं। बैंगन के दाम 30 रुपए प्रति किलो से बढ़कर 50 रुपए किलो पर पहुंच गए हैं। खीरा 10 रुपए प्रति किलो से बढ़कर 30 रुपए प्रति किलो पर पहुंच गए हैं। आलू के दाम 20 रुपए प्रति किलो के करीब है। दिल्ली के फुटकर बाजार में गोभी 100 से 120 रुपए प्रति किलो में मिल रही है। बाजार में शिमला मिर्च के दाम 60 रुपए प्रति किलो से कम कहीं पर भी नहीं हैं। अदरक को देखे तो वह 120 रुपए प्रति किलो में मिल रहा है। फुटकर बाजार में तोरई 40 रुपए, करेला और अरबी कहीं भी 100 रुपए किलो से कम नहीं है। घरों में इस्तेमाल होने वाली जरूरी चीजों के दामों पर न तो राज्य सरकार और न ही केंद्र सरकार नियंत्रण कर पा रही है। बढ़े दामों से आम परिवारों का बजट गड़बड़ाने लगा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App