ताज़ा खबर
 

भारतीय कंपनियों पर लगाम कसने के लिए अमेरिकी संसद में पेश हुआ बिल

यदि बिल पारित होता है तो उन कंपनियों पर एच-1बी वीजा पर 50 से अधिक कर्मचारियों को नियुक्त करने और कुल स्टाफ के 50 प्रतिशत से अधिक कर्मचारी एच-1बी और एल-1 वीजा पर करने पर रोक होगी।

Author वॉशिंगटन | July 9, 2016 17:25 pm
अंग्रेजी टेस्ट पास करने के बावजूद भारतीय महिला को ब्रिटेन का वीजा नहीं मिला। (प्रतीकात्मक फोटो)

अमेरिकी सांसदों के द्विदलीय समूह ने प्रतिनिधि सभा में एक विधेयक पेश किया है जो यदि पारित हो जाता है तो भारतीय कंपनियों पर एच-1बी और एल1 वीजा के आधार पर सूचना प्रौद्योगिकी पेशेवरों को नियुक्त करने पर प्रतिबंध लग जाएगा। डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन सांसदों द्वारा पेश वीजा ‘एच-1बी और एल-1 वीजा सुधार विधेयक’ यदि पारित होता है तो उन कंपनियों पर एच-1बी वीजा पर 50 से अधिक कर्मचारियों को नियुक्त करने और कुल स्टाफ के 50 प्रतिशत से अधिक कर्मचारी एच-1बी और एल-1 वीजा पर करने पर रोक होगी।

सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की बड़ी भारतीय कंपनियों की आय का मॉडल आम तौर पर एच-1बी और एल1 वीजा पर निर्भर करता है और उनका कारोबार इस विधेयक से बुरी तरह प्रभावित होंगे। उल्लेखनीय है कि इस वीजा विधेयक के समर्थक कैलिफोर्निया और न्यूजर्सी के सांसद हैं जहां सबसे अधिक भारतीय अमेरिकी रहते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App