ताज़ा खबर
 

भारत के साथ और व्यापार करना चाहता है अमेरिका: ओबामा

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि भले ही भारत और अमेरिका का द्विपक्षीय व्यापार 100 अरब डॉलर का रिकॉर्ड स्तर छू गया है, ‘‘ हम भारत के साथ और व्यापार करना चाहते हैं।’’ यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘‘ पिछले कुछ वर्षों में हमारे दोनों देशों के […]

Author January 26, 2015 10:36 AM
भारत-अमेरिका के संबंधों का मकसद चीन को ‘काबू में करना’ नहीं : व्हाइट हाउस (तस्वीर-रॉयटर्स)

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि भले ही भारत और अमेरिका का द्विपक्षीय व्यापार 100 अरब डॉलर का रिकॉर्ड स्तर छू गया है, ‘‘ हम भारत के साथ और व्यापार करना चाहते हैं।’’

यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में उन्होंने कहा, ‘‘ पिछले कुछ वर्षों में हमारे दोनों देशों के बीच व्यापार करीब 60 प्रतिशत बढ़कर 100 अरब डालर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया है। हम और व्यापार चाहते हैं।’’

तीन दिन की भारत यात्रा पर आए ओबामा ने सरकार द्वारा किए जा रहे सुधार के उपायों का स्वागत किया। ओबामा ने कहा, ‘‘ हम उन सुधारों का स्वागत करते हैं जो प्रधानमंत्री भारत में कारोबार में सुगमता के लिए आगे बढ़ा रहे हैं।’’ व्यापार एवं आर्थिक साझीदारी ‘हमारे लोगों’ के दैनिक जीवन में सुधार लाने पर केंद्रित होना चाहिए।’’

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री मोदी ने बैंक खातों के साथ और अधिक संख्या में भारतीयों को सशक्त बनाने एवं लोगों के लिए स्वच्छ पेयजल सुनिश्चित करने के अपने महत्वाकांक्षी प्रयासों के बारे में मुझे बताया है और हम इन प्रयासों में साझीदार बनना चाहते हैं।’’

उन्होंने यह भी कहा कि दोनों पक्ष द्विपक्षीय निवेश संधि पर बातचीत दोबारा शुरू करने पर सहमत हुए हैं। प्रस्तावित संधि का लक्ष्य दोनों देशों के बीच निवेश को संरक्षण देना है।

मई, 2014 में केंद्र में सत्ता संभालने वाली मोदी सरकार ने विदेशी निवेश आकर्षित करने के लिए कई उपाय किए हैं जिनमें रक्षा और बीमा क्षेत्रों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नियमों को उदार करना शामिल है।

बराक ओबामा ने कहा, ‘‘ हम उन सुधारों का स्वागत करते हैं जो प्रधानमंत्री भारत में कारोबार में सुगमता के लिए आगे बढ़ा रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि व्यापार एवं आर्थिक साझीदारी ‘हमारे लोगों’ के दैनिक जीवन में सुधार लाने पर केंद्रित होनी चाहिए।

मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका सामाजिक सुरक्षा समझौते पर बातचीत ‘फिर से शुरू करेंगे और बीआईटी पर भी बातचीत दोबारा शुरू होगी। उन्होंने कहा, ‘‘राष्ट्रपति ओबामा और मैं इस बात से सहमत हैं कि हमारे मजबूत और बढ़ रहे आर्थिक संबंध हमारी रणनीतिक भागीदारी का बहुत अहम हिस्सा है। दोनों देशों के बीच आर्थिक सहयोग और मजबूत हो रहा है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हम द्विपक्षीय निवेश समझौते पर संवाद पुन: आरंभ करेंगे। हम सामाजिक सुरक्षा पर भी फिर से चर्चा शुरू करेंगे जो अमेरिका में काम कर रहे लाखों भारतीय पेशेवरों के लिये महत्वपूर्ण है।’’

मोदी ने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच व्यावसायिक वातावरण में सुधार हो रहा है और इस कारण वह दोनों देशों के आर्थिक संबंधों को लेकर ‘‘अत्यधिक आशावान’’ हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री मोदी ने बैंक खातों के साथ और अधिक संख्या में भारतीयों को सशक्त बनाने एवं जनता के लिए स्वच्छ पेयजल और स्वच्छ हवा सुनिश्चित करने के अपने महत्वाकांक्षी प्रयासों के बारे में मुझे बताया है और हम इन प्रयासों में साझीदार बनना चाहते हैं।’’

मोदी सरकार ने विदेशी निवेश आकर्षित करने के लिए कई उपाय किए हैं जिनमें रक्षा और बीमा क्षेत्रों में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नियमों को उदार करना शामिल है। सरकार भारत में कारोबार करना आसान बनाने के लिए भी कई कदम उठा रही है।

सामाजिक सुरक्षा और निवेश पर संधियां होने पर दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार एवं निवेश में तेजी आने की संभावना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App