ताज़ा खबर
 

नितिन गडकरी बोले- बदल देंगें आपके चाय की चुस्की का मजा, चीनी के बदले मार्केट में लाएंगे शहद के क्यूब

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दावा किया है कि वह सरकार ग्रामीण उद्योगों को बढ़ावा देने के काम कर रहे हैं। इसके तहत वह अगले छह महीनों में चीनी की जगह शहद के क्यूब लाने की बात कह रहे है जिसे लोग चाय में डालकर पी भी सकते हैं।

Author नई दिल्ली | Published on: November 28, 2019 5:34 PM
केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

देश के ग्रामीण क्षेत्र में गरीबी और बेरोजगारी बड़े स्तर पर होने की बात स्वीकार करते हुए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने गुरूवार (28 नवंबर) को कहा कि सरकार ग्रामीण उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए कई कोशिश कर रही है। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसे ही अनेक प्रयासों के तहत अगले कुछ महीने में खादी ग्रामोद्योग आयोग शहद के क्यूब लांच करने जा रहा है। उनके मुताबिक, इन शहद के क्यूबों को चीनी की जगह पर इस्तेमाल किया जा सकेगा। मामले में केंद्रीय सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग (एमएसएमई) मंत्री नितिन गडकरी ने लोकसभा में बताया कि सरकार शहद के क्लस्टर बना रही है और उच्च गुणवत्ता के शहद से चीनी की तरह ही क्यूब बनाने की दिशा में काम हो रहा है।

चीनी की जगह शहद के क्यूब डाल सकेंगे चाय मेंः उन्होंने सुनील कुमार पिंटू के पूरक प्रश्न के उत्तर में कहा कि खादी ग्रामोद्योग आगामी कुछ महीने में शहद के क्यूब की बिक्री शुरू करेगा। गडकरी ने बताया कि अगले छह महीने के अंदर ही लोग चीनी के क्यूब की जगह शहद के क्यूब डालकर चाय पी सकेंगे। उन्होंने यह भी बताया कि एमएसएमई मंत्रालय ‘भारत क्राफ्ट’ नाम से नया ई-कॉमर्स पोर्टल शुरू करने जा रहा है। इसे भारतीय स्टेट बैंक के साथ मिलकर चलाने की योजना है।

Hindi News Today, 28 November 2019 LIVE Updates: देश-दुनिया की हर खबर पढ़ने के लिए यहां करें क्लिक

नया ई-कॉमर्स पोर्टल से कहीं से भी खरीदारी संभवः गडकरी ने बताया कि इस नया ई-कॉमर्स पोर्टल पर एमएसएमई के सभी उत्पाद बिक्री के लिए उपलब्ध होंगे और ‘न्यूयॉर्क में बैठकर कश्मीर का शॉल खरीदा जा सकता है।’ उन्होंने कहा कि इसके अलावा नए विचारों के लिए एक वेबसाइट भी शुरू होने वाली है। सरकार इन नए तकनीक को लेकर काम कर रही है।

एमएसएमई उद्योग को बढ़ाने का उद्देश्यः मामले में गडकरी ने कहा कि एमएसएमई उद्योग से इस साल 85 हजार करोड़ रुपए के व्यापार की संभावना है। आगामी पांच साल में देश के विकास में एमएसएमई का योगदान 50 प्रतिशत ले जाने का लक्ष्य रखा गया है, जो अभी लगभग 29 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि सरकार का पूरा ध्यान केवल शहरों पर नहीं, बल्कि ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों पर विशेष ध्यान है। गडकरी ने दावा किया कि कुछ वर्ष में देश में ग्रामीण अर्थव्यवस्था में इतनी मजबूती आएगी कि लोग शहरों से गांवों की ओर लौटेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 RBI और सरकार में फिर हो सकती है तकरार? 25 बैंकों के NPA खरीदने के लिए सरकार फंड बनाने का दे रही दबाव!
2 Motor Insurance का प्रीमियम तय करेगा DRIVING स्टाइल! लागू हो सकता है Telematics बीमा
3 मुकेश अंबानी के Network 18 को खरीदने की सोच रही BCCL, रिलायंस ने बताया बेबुनियाद, कहा- झूठी है रिपोर्ट
जस्‍ट नाउ
X