ताज़ा खबर
 

विदेशों में पड़े भारतीय एसेट को जब्त करेगी ये ब्रिटिश कंपनी, जानिए क्या है इसकी वजह

ब्रिटेन की केयर्न एनर्जी को 1.4 अरब डॉलर का हर्जाना देने के आदेश के तहत विदेशों में भारतीय बैंक खातों, विमानों और अन्य एसेट को जब्त किया जा सकता है। एक पत्र में यह बात कही गई है।

cairn energy, threatens, enforce arbitration, indian assetsब्रिटेन की केयर्न एनर्जी को 1.4 अरब डॉलर का हर्जाना देना है (photo-Indian express )

बीते साल टैक्स से जुड़े एक मामले में ब्रिटिश कंपनी केयर्न एनर्जी ने भारत सरकार को मध्यस्थता अदालत में शिकस्त दी थी। इस मामले में अदालत की ओर से केयर्न एनर्जी को हर्जाना देने का भी आदेश दिया गया था।

अब ब्रिटेन की केयर्न एनर्जी को 1.4 अरब डॉलर का हर्जाना देने के आदेश के तहत विदेशों में भारतीय बैंक खातों, विमानों और अन्य एसेट को जब्त किया जा सकता है। एक पत्र में यह बात कही गई है। इस पत्र के मुताबिक यदि भारत सरकार न्यायाधिकरण के आदेश का पालन करने में असफल रहती है, तो उस सूरत में ब्रिटिश कंपनी ने विदेश में स्थित भारतीय परिसंपत्तियों की पहचान शुरू कर दी है।

केयर्न के सीईओ साइमन थॉमसन ने लंदन में भारत के उच्चायुक्त को 22 जनवरी के पत्र में कहा कि मध्यस्थता आदेश ‘‘अंतिम और बाध्यकारी’’ है। भारत सरकार इसकी शर्तों को मानने के लिए बाध्य है। इस पत्र की प्रति प्रधानमंत्री कार्यालय, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस जयशंकर को भी भेजी गई है।

पत्र में लिखा है, ‘‘भारत ने न्यूयॉर्क कन्वेंशन पर हस्ताक्षर किया गया है, इसलिए आदेश को दुनिया भर के कई देशों में भारतीय संपत्ति के खिलाफ लागू किया जा सकता है, जिसके लिए आवश्यक तैयारियां की जा चुकी हैं।’’

आपको बता दें कि तीन सदस्यीय न्यायाधिकरण, जिसमें भारत सरकार द्वारा नियुक्त एक न्यायाधीश भी शामिल हैं, ने पिछले महीने आदेश दिया था कि 2006-07 में केयर्न द्वारा अपने भारत के व्यापार के आंतरिक पुनर्गठन करने पर भारत सरकार का 10,247 करोड़ रुपये का कर दावा वैध नहीं है।

न्यायाधिकरण ने भारत सरकार से यह भी कहा कि वह केयर्न को लाभांश, कर वापसी पर रोक और बकाया वसूली के लिए शेयरों की आंशिक बिक्री से ली गई राशि ब्याज सहित लौटाए। अगर भारत न्यायाधिकरण के आदेश का पालन नहीं करता है, तो यह मध्यस्थ आदेश पर अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन होगा, जिसे आमतौर पर न्यूयॉर्क कन्वेंशन कहा जाता है। (भाषा से इनपुट)

Next Stories
1 Accenture को TCS ने पछाड़ा, बनी दुनिया की सबसे बड़ी IT कंपनी; रतन टाटा के Tata Group की है इकाई
2 BSNL की जमीन सीबीएसई को बेचने को मिली मंजूरी, MTNL से मर्जर को टाला गया
3 भारत को पछाड़ स्पेस में एलन मस्क का नया रिकॉर्ड, सिर्फ एक दिन में बढ़ गई इतनी दौलत
ये पढ़ा क्या?
X