ताज़ा खबर
 

एक घंटे की उड़ान का किराया 2,500 रुपए, पहली उड़ान जनवरी में होगी

प्रमुख मार्गों पर हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों को क्षेत्रीय संपर्क योजना के वित्त पोषण के लिए अधिक भुगतान करना होगा। इस योजना के तहत एक घंटे की उड़ान सेवा के लिए 2,500 रुपए की सीमा लगाई गई है।

Author नई दिल्ली | Updated: October 22, 2016 4:27 AM

प्रमुख मार्गों पर हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों को क्षेत्रीय संपर्क योजना के वित्त पोषण के लिए अधिक भुगतान करना होगा। इस योजना के तहत एक घंटे की उड़ान सेवा के लिए 2,500 रुपए की सीमा लगाई गई है। सरकार को उम्मीद है कि इस योजना के तहत पहली उड़ान जनवरी में होगी। दुनिया में अपनी तरह की इस पहली योजना उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) के तहत ‘फिक्सड विंग एयरक्राफ्ट’ में बाजार व्यवस्था के साथ न्यूनतम नौ सीट तथा अधिकतम 40 सीट बोली पर आधारित होगी। योजना के तहत ऐसी उड़ानों में 50 प्रतिशत सीटों के लिए किराया सीमा 2,500 रुपए होगा और शेष के मामले में यह बाजार आधारित कीमत व्यवस्था पर आधारित होगा। नागर विमानन मंत्री अशोक गजपति राजू ने गुरुवार को कहा, ‘हम सावधानी के साथ उड़ान के लिए आशावान हैं।’ उन्होंने कहा कि योजना के तहत पहली उड़ान जनवरी 2017 में शुरू होने की उम्मीद है।

कुछ एयरलाइंस योजना के वित पोषण के लिए शुल्क लगाने के प्रस्ताव से नाखुश हैं। योजना का मसौदा जुलाई में पेश किया गया था। नागर विमानन सचिव आरएन चौबे ने कहा कि शुल्क से संबंधित नियम राजपत्र में दो दिन में प्रकाशित किया जाएगा जबकि इस संदर्भ में सरकारी आदेश माह के अंत तक जारी होगा। उन्होंने कहा कि शुल्क ‘बहुत कम’ होगा। लाभदायक मार्गों पर शुल्क से हवाई किराए में वृद्धि की संभावना है। नागर विमानन राज्यमंत्री जयंत सिन्हा ने कहा, ‘‘वैश्विक स्तर पर यह अपनी तरह का पहला मामला है….हम कुछ ऐसा कर रहे हैं जो पहले कहीं नहीं किया गया।’

Next Stories
1 Delhi Metro: बढ़ेगें मेट्रो के कोच, 258 डिब्बों से बढ़ेगी रफ्तार, 20 लोगों को पहुंचाएगी फायदा
2 चीन निर्मित उत्पादों की बिक्री 40 फीसद घटी
3 TRAI ने Airtel, Idea और Vodafone पर लगाया 3,050 का जुर्माना, जानिए क्या है वजह
ये पढ़ा क्या?
X