ताज़ा खबर
 

TRAI New Rules: अधिकतर ग्राहकों की जेब पर बोझ बढ़ाएगा टीवी का बिल, बड़े चैनलों को होगा फायदा!

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्राई के निर्देशों के मुताबिक चैनल ब्रॉडकास्टर्स और डिस्ट्रीब्यूटर्स ने जो कैपसिटी फीस और चैनलों की कीमतों तय की हैं, उससे अधिकतर ग्राहकों का मासिक बिल बढ़ सकता है।

Author February 5, 2019 8:53 AM
तस्वीर का प्रयोग प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। (Thinkstock Images)

लिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) की ओर से डीटीएच और केबल ऑपरेटरों के लिए बनाए गए नियम 1 फरवरी से लागू हो गए हैं। इसके तहत, ग्राहक अब उन्हीं चैनल के लिए भुगतान करेगा जिनको वह देखेगा। उम्मीद की जा रही थी कि नए नियम से ग्राहकों की जेब पर टीवी देखने के बिल का बोझ कम होगा। हालांकि, एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि योजना के लागू होने के बाद अधिकतर टीवी चैनल सब्सक्राइबर्स का मासिक बिल बढ़ सकता है। वहीं, इस रिपोर्ट में यह भी संभावना जताई गई है कि नए नियम से मशहूर चैनलों की कमाई में इजाफा होगा।

रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्राई के निर्देशों के मुताबिक चैनल ब्रॉडकास्टर्स और डिस्ट्रीब्यूटर्स ने जो कैपसिटी फीस और चैनलों की कीमतों तय की हैं, उससे अधिकतर ग्राहकों का मासिक बिल बढ़ सकता है। क्रिसिल के सीनियर डायरेक्टर सचिन गुप्ता ने कहा, ‘नियमों के असर को लेकर हमारे एनालिसिस में इस बात के संकेत मिलते हैं कि मासिक टीवी बिल पर कई तरह का असर पड़ेगा। वर्तमान कीमतों के आधार पर देखा जाए तो मासिक टीवी बिल वर्तमान के 230-240 रुपये से 25 फीसदी बढ़कर करीब 300 रुपये तक पहुंच सकता है। ऐसा उन ग्राहकों के लिए होगा जो टॉप 10 चैनलों का चुनाव करेंगे। हालांकि, उन ग्राहकों का बिल घटेगा जो अधिकतम टॉप 5 चैनलों का ही चुनाव करेंगे।’

वहीं, रेटिंग एजेंसी का मानना है कि चैनल ब्रॉडकास्टर्स का सब्सक्रिप्शन रेवेन्यू वर्तमान में 60-70 रुपये महीने से 40 फीसदी बढ़कर 94 रुपये प्रति सब्सक्राइबर तक पहुंच जाएगा। अगर ग्राहक मशहूर चैनलों को चुनते हैं तो बड़े ब्राडकास्टर को फायदा होगा। इस बात की भी आशंका है कि बेहद छोटे और कम मशहूर चैनल बिजनेस के अभाव में ऑफ एयर हो सकते हैं। रेटिंग एजेंसी ने इस बात की संभावना जताई है कि नए नियमों की वजह से ओटीटी प्लैटफॉर्म या आम भाषा में कहें तो ऐप्स आदि के जरिए टीवी कार्यक्रमों की सेवा देने वाली कंपनियों को बड़ा मुनाफा होगा। इसकी वजह यह है कि बहुत सारे ग्राहक बढ़ते टीवी बिल से परेशान होकर इस सेवा की ओर रुख करेंगे। डेटा की घटती कीमत भी इसकी एक बड़ी वजह बन सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App