ताज़ा खबर
 

गैस मूल्य पर मंत्रिमंडलीय समिति आज कर सकती है विचार

नई दिल्ली। घरेलू प्राकृतिक गैस के मूल्य निर्धारण की नयी व्यवस्था पर पेट्रोलियम एवं बिजली मंत्रालयों के मतभेद के बीच आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) गैस मूल्य बढ़ाने पर आज विचार कर सकती है। जानकार सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में सीसीईएस की बैठक शाम को होनी है। इसमें घरेलू […]

Author Published on: September 24, 2014 2:13 PM

नई दिल्ली। घरेलू प्राकृतिक गैस के मूल्य निर्धारण की नयी व्यवस्था पर पेट्रोलियम एवं बिजली मंत्रालयों के मतभेद के बीच आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (सीसीईए) गैस मूल्य बढ़ाने पर आज विचार कर सकती है।

जानकार सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में सीसीईएस की बैठक शाम को होनी है। इसमें घरेलू प्राकृतिक गैस की कीमत बढ़ाने के प्रस्ताव पर चर्चा संभव है।

सूत्रों के अनुसार पेट्रोलियम मंत्रालय मूल्य लाभदायक रखने के पक्ष में है ताकि कंपनियां गैस की खोज और उत्पादन में पूंजी लगाने को आकर्षित हों। बिजली मंत्रालय का कहना है कि गैस मूल्य वर्तमान 4.2 डालर प्रति इकाई (एमएमबीटीयू) से 25 प्रतिशत ज्यादा नहीं बढाया जाना चाहिए क्यों कि इससे बिजली की लागत बढेगी।

सरकार ने घोषणा की है कि वह इस माह के अंत तक इस बारे में कोई फैसला कर सकती है।

इससे पहले पिछली संप्रग सरकार ने गैस मूल्य बढाने के फार्मूले पर पिछले साल जून में रंगराजन समिति के सुझाए को मान चुकी थी और दिसंबर में उसकी पूष्टि कर दी थी। इसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज की कृष्णा गोदावरी (केजी) बेसिन के डी6 गैस फील्ड की गैस के लिए नया दाम देने के बारे में कुछ शर्त लगायी गयी थी।

बीच में आम चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग की आचार संहिता लागू हो जाने के कारण गैस मूल्य बढाने की प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। चुनाव के बाद गठित राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार ने गैस मूल्य की फिर समीक्षा कराने का निर्णय किया और सचिवों की चार सदस्यीय समिति बिठायी। बिजली, उर्वरक, वित्त और पेट्रोलियम मंत्रालय के अधिकारियों की इस समिति ने अपनी रपट दे दी है।

प्रधानमंत्री मोदी कल अमेरिका की यात्रा पर जा रहे हैं और वह वहां 30 सितंबर तक रहेंगे। इस तरह यदि आज इस मूद्दे पर निर्णय नहीं हुआ तो इस माह की समय सीमा चुक सकती है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories