ताज़ा खबर
 

ITR: इनकम टैक्स रिटर्न फाइल के लिए चाहिए ये जरूरी दस्तावेज

Income Tax Return: ITR फाइल करते समय, एक फाइनेंशियल ईयर में प्रॉपर्टी, स्टॉक, म्यूचुअल फंड, और गोल्ड बेचने से होने वाले पूंजीगत लाभ के बारे में सूचित करना जरूरी है।

ITR filing documents, itr,income tax, form-16, documents to file itr, ITR filing, TR-1, Aadhaar card, Salary slips, Interest certificates from banks and post office , Form-16A/Form-16B/Form-16C, Form 26AS, Tax-saving investment proofs, Deductions under section 80D to 80U, Home loan statement from bank/NBFC, Capital gainsयदि आपने होम लोन लिया है तो संबंधित बैंक या NBFC से लोन का स्टेटमेंट लेना न भूलें।

आदिल शेट्टी,
वित्त वर्ष 2017-18 के लिए ITR फाइल करने की आखिरी तारीख 31 जुलाई काफी करीब आ रही है और आखिरी समय में भागदौड़ से बचने के लिए सारे आवश्यक दस्तावेज इकठ्ठा करने का समय आ गया है। इससे आपकी फाइलिंग प्रक्रिया तेज हो जाएगी और कमीशन की गलतियों या भूल-चूक से बचने में मदद मिलेगी। यहां आपको सभी महत्वपूर्ण टैक्स सम्बन्धी दस्तावेजों के बारे में बताया जा रहा है जिन्हें आपको हमेशा तैयार करके रखना चाहिए।

पैन कार्ड और आधार कार्ड: आप अपने पैन नंबर के बिना अपना ITR फाइल नहीं कर सकते। यह इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की ई-फाइलिंग वेबसाइट में आपके यूजर आईडी की तरह काम करता है। इसके अलावा यदि आपके पास एक आधार कार्ड है तो आप इसका इस्तेमाल करके इस प्रक्रिया को और तेज बना सकते हैं। यदि आपका आधार आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर और पैन नंबर से जुड़ा है तो आधार आधारित OTP का इस्तेमाल करके ई-वेरिफिकेशन किया जा सकता है। अपने पैन को आधार के साथ लिंक करने की आखिरी तारीख, 31 मार्च 2019 तक बढ़ा दी गई है।

फॉर्म 16 और सैलरी स्लिप: फॉर्म 16 और सैलरी स्लिप, सैलरी पर काम करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को उनके एम्प्लोयर द्वारा जारी किए जाने वाले दस्तावेज हैं। फॉर्म 16 में दी गई सैलरी, काटे गए TDS, छूट इत्यादि का विवरण रहता है जिनकी मदद से ITR फाइल करते समय आमदनी का पूरा ब्यौरा पेश किया जा सकता है। लेकिन, आपको फॉर्म 16 में अपने पैन नंबर की जांच कर लेनी चाहिए और एम्प्लोयर द्वारा काटे गए TDS की रकम को अपने सैलरी स्लिप में दिखाई देने वाली रकम के साथ मिलाकर देख लेना चाहिए। कोई गलती दिखाई देने पर, एम्प्लोयर को तुरंत सूचित करके उसे ठीक करवा लेना चाहिए।

फॉर्म 26 AS: फॉर्म 26 AS एक टैक्स क्रेडिट स्टेटमेंट, या इनकम टैक्स डिपार्टमेंट द्वारा जारी किया जाने वाला एक वार्षिक स्टेटमेंट है। इसमें आपके द्वारा या आपकी तरफ से दिए गए कुल टैक्स का एक संयुक्त विवरण रहता है। रिपोर्ट में कोई गलती दिखाई देने पर उसे ठीक करवा लेना चाहिए, नहीं तो आप उस राशि पर TDS क्लेम नहीं कर पाएंगे।

होम लोन के ब्याज और मूलधन के भुगतान का विवरण: यदि आपने होम लोन लिया है तो संबंधित बैंक या NBFC से लोन का स्टेटमेंट लेना न भूलें। इसमें आपको इस बात का विवरण मिल जाएगा कि आपने कितना मूलधन और ब्याज चुकाया है। आप धारा 24 के तहत एक होम लोन के लिए दिए गए ब्याज के लिए 2 लाख रुपये तक की टैक्स कटौती का लाभ उठा सकते हैं और धारा 80 (C) के तहत 1.5 लाख रुपये तक मूलधन चुकौती पर टैक्स लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

संबंधित फाइनेंशियल ईयर के दौरान अर्जित पूंजीगत लाभ का विवरण: ITR फाइल करते समय, एक फाइनेंशियल ईयर में प्रॉपर्टी, स्टॉक, म्यूचुअल फंड, और गोल्ड बेचने से होने वाले पूंजीगत लाभ के बारे में सूचित करना जरूरी है। इस तरह की प्रॉपर्टी से होने वाले लाभ का हिसाब निकालने के लिए, आपको प्रॉपर्टी का परचेज और सेल डीड, म्यूचुअल फंड के लेनदेन का स्टेटमेंट और शेयर में निवेश का लेजर स्टेटमेंट जैसे दस्तावेजों की जरूरत पड़ती है।
लेखक बैंक बाजार डॉट कॉम के सीईओ हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 7th Pay Commission: अब इस राज्य सरकार के 19 लाख कर्मचारियों मिलेगी बढ़ी हुई सैलरी
2 Sukanya Samriddhi Yojana: सुकन्या समृद्धि योजना में खाता चलाना हुआ आसान, सिर्फ इतने रुपए करने होंगे जमा
3 100 रुपये का नया नोट: एटीएम में व्‍यवस्‍था करने के लिए बैंकों को खर्चने होंगे 100 करोड़
ये पढ़ा क्या?
X