ताज़ा खबर
 

एयरटेल के चेयरमैन सुनील मित्तल का Jio पर निशाना, बाजार में निवेशकों ने दिया ये रिएक्शन

सुनील मित्तल ने कहा कि एयरटेल तीन-चार बड़े संकटों से उबरकर अब बाजार में कई मोर्चों पर एक स्वस्थ आकार में है। इनमें 2016 में जियो के आने के बाद पैदा हुई अड़चनें भी शामिल हैं।

sunil mittal, mukesh ambaniसुनील मित्तल ने मुकेश अंबानी के रिलायंस जियो पर ​साधा निशाना (Photo-Indian Express)

टेलीकॉम इंडस्ट्री की कंपनी एयरटेल के मुखिया सुनील मित्तल ने एक बार फिर रिलायंस जियो पर निशना साधा है। इस बीच, शेयर बाजार में एयरटेल के शेयर में बढ़त दर्ज की गई है जबकि रिलायंस जियो की पैरेंट कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को नुकसान हुआ है।

कारोबार के अंत में एयरटेल ने 0.25 फीसदी की बढ़त 540.55 दर्ज की गई। एयरटेल का मार्केट कैपिटल 2 लाख 97 हजार करोड़ रुपये रहा। रिलायंस की बात करें तो शेयर भाव नुकसान के साथ 1934 रुपये के स्तर पर रहा। कंपनी का मार्केट कैपिटल 12 लाख 26 हजार करोड़ रुपये के स्तर पर है।

क्या कहा सुनील मित्तल ने: सुनील मित्तल ने कहा कि एयरटेल तीन-चार बड़े संकटों से उबरकर अब बाजार में कई मोर्चों पर एक स्वस्थ आकार में है। इनमें 2016 में जियो के आने के बाद पैदा हुई अड़चनें भी शामिल हैं। मित्तल ने कहा कि अब दूरसंचार बाजार तीन निजी क्षेत्र के ऑपरेटरों तक सिमट गया है, जिसमें से एक पर सवालिया निशान लगातार बढ़ रहा है। मित्तल ने कहा कि अगले पांच से 10 साल में भारत औद्योगिक, डिजिटल विस्तार और आत्मनिर्भरता के जरिये प्रमुख अर्थव्यवस्था के रूप में एक बड़ी ताकत होगा। (ये पढ़ें-अडानी संभाल रहे हैं अंबानी का कारोबार)

मित्तल ने कहा, ‘‘इनमें हालिया संकट 2016 में जियो की शुरुआत थी। यह सबसे मजबूत प्रतिद्वंद्वियों में रहा है। जियो ने एक साल तक मुफ्त में सेवाएं दी, फिर एक साल तक काफी कम मूल्य पर सेवाएं दी, सब्सिडी वाले फोन दिए। बाजार बिगाड़ने वाली कीमत पेश की। सब तरह की चीजें हुईं। इसमें हैरानी नहीं होनी चाहिए 12 में से नौ ऑपरेटरों ने अपना बोरिया बिस्तर बांध लिया। ये ऑपरेटर दिवालिया हो गए। हमारे साथ या एक-दूसरे के साथ इनका विलय हो गया। ’’

बिना किसी का नाम लिए मित्तल ने कहा कि आज हम तीन निजी ऑपरेटरों तक सिमट गए हैं। इनमें स्पष्ट तौर पर एक ऑपरेटरों पर लगातार सवालिया निशान लग रहा है। ऐसे में हमारे 1.3 अरब की आबादी वाले देश में हम सिर्फ ढाई ऑपरेटरों तक सिमट गए हैं। हमने अंतिम इम्तिहान भी पास कर लिया है।

2016 में जियो की एंट्री: आपको बता दें कि मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो ने टेलीकॉम इंडस्ट्री में साल 2016 में एंट्री की थी। इस दौरान कंपनी ने फ्री कॉलिंग और डेटा की शुरुआत की और ये लंबे समय तक चला। इस वजह से अन्य टेलीकॉम कंपनियों पर भी दबाव बढ़ गया। कई टेलीकॉम कंपनियों ने तो कारोबार समेट लिया, वहीं आइडिया और वोडाफोन ने आपस में विलय कर लिया। आज टेलीकॉम इंडस्ट्री में ग्राहकों के मामले में क्रमश: रिलायंस जियो के अलावा एयरटेल और वोडाफोन आइडिया शामिल हैं। (ये पढ़ें—जब अंबानी की डील पर बिड़ला परिवार को हुई आपत्ति)

भारतीय शेयर बाजार का हाल: सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन शेयर बाजार में मामूली बढ़त रही। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 29 अंक या 0.06 प्रतिशत की बढ़त के साथ 48,832 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 36.40 अंक या 0.25 प्रतिशत की बढ़त के साथ 14,617.85 अंक पर पहुंच गया।

Next Stories
1 गौतम अडानी की टीम में शामिल है ये शख्स, मिली है अहम जिम्मेदारी
2 अनिल अंबानी ने बेटे को बनाया था रिलायंस इंफ्रा का डायरेक्टर, अब बिक रही है कंपनी की संपत्तियां
3 अजीम प्रेमजी की कंपनी को जबरदस्त मुनाफा, 2 विदेशी कंपनियों को खरीदने का किया है ऐलान
यह पढ़ा क्या?
X