ताज़ा खबर
 

Tata Steel में 3000 लोगों की छंटनी, बंद हो रहा Adity Birla Idea पेमेंट बैंक

पेमेंट बैंकिंग सेक्टर की 4 कंपनियां बीते कुछ समय के दौरान ही बंद हो चुकी हैं। इनमें टेक महिंद्रा, चोलामंडलम इन्वेस्टमेंट एंड फाइनेंस कंपनी और दिलीप सांघवी के IDFC बैंक और Telenor फाइनेंशियल सर्विसेज जैसी कंपनियां शामिल हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: November 19, 2019 7:29 PM
टाटा स्टील करेगी 3000 कर्मचारियों की छंटनी।

देश और दुनिया में जारी आर्थिक गिरावट का असर अब नौकरियों में छंटनी के तौर पर दिखने लगा है। बता दें कि टाटा स्टील ने अपने यूरोपियन ऑपरेशंस में 3000 लोगों को छंटनी करने का फैसला किया है। कंपनी ने सोमवार को इसकी घोषणा की है। इससे पहले टाटा ग्रुप के यूरोपियन सीईओ हेनरिक एडम ने भी बताया था कि कंपनी यूरोप में छंटनी करने पर विचार कर रही है। हालांकि तब उन्होंने आंकड़ों का खुलासा नहीं किया था। अब ताजा ऐलान में 3000 लोगों की नौकरी जाने की बात कही गई है।

रायटर्स की एक रिपोर्ट के अनुसार, एक बयान में कंपनी ने कहा है कि क्षमता में इजाफा करने, उच्च कीमत वाले उत्पादों की बिक्री और लागत दर कम करने के उद्देश्य से यह छंटनी की जा रही है। कंपनी को यूरोप में कम मांग, ज्यादा उत्पादन और बिक्री संबंधी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। कंपनी ने वित्तीय वर्ष 2021 तक लाभ की स्थिति में आने का लक्ष्य रखा है।

वहीं भारत में पेमेंट बैंक का बंद होना जारी है। बता दें कि आदित्य बिरला आइडिया पेमेंट बैंक बंद हो रहा है। इस साल जुलाई में आदित्य बिरला आइडिया पेमेंट बैंक ने ऑपरेशन बंद करने का ऐलान किया था। इसके लिए कंपनी ने ‘अप्रत्याशित माहौल’ और बिजनेस के ‘अस्थिर मॉडल’ को वजह बताया है।

गौरतलब है कि पेमेंट बैंकिंग सेक्टर की 4 कंपनियां बीते कुछ समय के दौरान ही बंद हो चुकी हैं। इनमें टेक महिंद्रा, चोलामंडलम इन्वेस्टमेंट एंड फाइनेंस कंपनी और दिलीप सांघवी के IDFC बैंक और Telenor फाइनेंशियल सर्विसेज जैसी कंपनियां शामिल हैं। अब इस फेहरिस्त में आदित्य बिरला आइडिया पेमेंट बैंक भी शामिल हो गई है।

आदित्य बिरला आइडिया पेमेंट बैंक ने फरवरी, 2018 में इस फील्ड में ऑपरेशन शुरु किया था। आरबीआई ने अगस्त, 2015 को 11 कंपनियों को पोस्ट पेमेंट बैंक के लिए लाइसेंस जारी किए थे। रिपोर्ट्स के अनुसार, भारत में पोस्ट पेमेंट बैंक बिजनेस कम व्यापार होने और कर्मचारियों की सैलरी के बढ़ते बोझ के चलते सर्वाइव नहीं कर पा रहा है। यही वजह है कि कई कंपनियां इस क्षेत्र में अपना कामकाज बंद कर चुकी हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Vodafone Idea ने कहा- नहीं दे पाएंगे इतने पैसे में सर्व‍िस, 1 दिसंबर बढ़ेगा टैरिफ; Airtel भी उसी रास्‍ते पर
जस्‍ट नाउ
X