ताज़ा खबर
 

रतन टाटा ने लगाया एक और बिजनेस में पैसा, जानिए रिटायरमेंट के बाद कहां करते रहे हैं निवेश

एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में सक्रिय प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस (Pritish Nandy Communications) में जाने माने उद्योगपति रतन टाटा ने दांव लगाया है। ये पहली बार नहीं है जब रतन टाटा किसी स्टार्टअप में निवेश कर रहे हैं।

प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस में जाने माने उद्योगपति रतन टाटा ने दांव लगाया है। (Photo-PTI )

एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में सक्रिय प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस (Pritish Nandy Communications) में जाने माने उद्योगपति रतन टाटा ने दांव लगाया है। हालांकि, निवेश और हिस्सेदारी का ब्यौरा नहीं दिया गया है।

क्या कहा कंपनी ने: प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस (Pritish Nandy Communications) ने शेयर बाजार को दिए सूचना में कहा है, ‘‘टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन और टाटा संस के चेयरमैन एमिरिटस रतन टाटा ने अपनी व्यक्तिगत क्षमता के तहत प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस लिमिटेड में हिस्सेदारी खरीदी है। वह स्टार्टअप्स और अन्य कंपनियों में निवेश करते हैं।’’

इस खबर के बीच, बीएसई इंडेक्स पर प्रीतिश नंदी कम्युनिकेशंस (Pritish Nandy Communications) के शेयर में जबरदस्त इजाफा हुआ है। लगातार दूसरे कारोबारी दिन यानी मंगलवार को कंपनी का शेयर भाव करीब 10 फीसदी बढ़कर 26 रुपये के स्तर पर पहुंच गया है।

रतन टाटा कहां करते हैं निवेश: रतन टाटा छोटी स्टार्टअप कंपनियों में निवेश करते रहे हैं। सबसे पहले साल 2014 में एल्टिरोज एनर्जी में निवेश से शुरुआत की थी। इसके बाद टाटा ने अर्बनक्लैप, लेंसकार्ट, अब्रा, डॉगस्पॉट, फर्स्टक्राइ, लाइब्रेट, होलाशेफ, कार देखो, जेनरिक आधार, ग्रामीण कैपिटल, स्नैपडील, ब्लू स्टोन, अर्बन लैडर, जिवामे, कैशकरो, पेटीएम, ओला जैसी कंपनियों में भी निवेश किया।

रतन टाटा ने एक इंटरव्यू में कहा था कि मैं उन कंपनियों में निवेश करने का इच्छुक हूं, जिनमें विविधता हो। रतन टाटा ने उन कंपनियों को तरजीह दी जो आम आदमी से जुड़ी हैं और ऐसे उपक्रमों में जो स्वास्थ्य, महिला सशक्तिकरण और इंटरनेट के प्रसार से जुड़े हैं।

हाल ही में टाटा समूह ने ऑनलाइन किराना दुकान बिग बास्केट में 60 प्रतिशत से अधिक हिस्सेदारी खरीदने का प्रस्ताव किया है। भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) को दी गयी सूचना के अनुसार समूह की प्राथमिक और द्वितीयक अधिग्रहण के जरिये 64.3 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदने की योजना है। टाटा के इस कदम के बाद रिटेल मार्केट में मुकेश अंबानी की कंपनी जियोमार्ट की चुनौती बढ़ जाएगी।

Next Stories
1 कोरोना काल के नौ महीनों में बंद हुए 71 लाख पीएफ खाते, हुई 73,498 करोड़ रुपए की निकासी
2 मुकेश अंबानी की रिलायंस को हो गया बड़ा नुकसान, ONGC का ये रहा हाल
3 इकोनॉमी के मोर्चे पर आई 2 बुरी खबर, थोक महंगाई में इजाफा, निर्यात के मुकाबले आयात भी बढ़ा
आज का राशिफल
X