ताज़ा खबर
 

बेटे के निधन के बाद मां सुशीला सिंघानिया को मिली जेके सीमेंट की कमान, पहली बार महिला चेयरपर्सन

सुशीला सिंघानिया के अलावा राघवपत सिंघानिया को जेके सीमेंट के नया प्रबंध निदेशक बनाया गया है, जबकि उनके भाई माधवकृष्ण सिंघानिया को कंपनी के उप प्रबंध निदेशक की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

jk cementसुशीला सिंघानिया को मिली जेके सीमेंट की कमान

देश की दिग्गज सीमेंट कंपनी जेके सीमेंट की कमान यदुपति सिंघानिया की मां सुशीला सिंघानिया को सौंपी गई है। कुछ दिन पहले ही जेके ग्रुप के चेयरमैन यदुपति सिंघानिया का लंबी बीमारी के बाद सिंगापुर में निधन हो गया था। सुशीला सिंघानिया के अलावा राघवपत सिंघानिया को जेके सीमेंट के नया प्रबंध निदेशक बनाया गया है, जबकि उनके भाई माधवकृष्ण सिंघानिया को कंपनी के उप प्रबंध निदेशक की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं यदुपति सिंघानिया की पत्नी कविता सिंघानिया को जेके सीमेंट का निदेशक बनाया गया है। ये फैसले जेके सीमेंट की बोर्ड आफ डायरेक्टर्स की बैठक में लिए गए।

सोमवार को हुई बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक में सुशीला सिंघानिया को चेयरपर्सन की जिम्मेदारी दी गई। इससे पहले सुशीला सिंघानिया जेके सीमेंट की निदेशक थी। यदुपति सिंघानिया लंबे समय से बीमार चल रहे थे और 13 अगस्त को सिंगापुर में उनका निधन हो गया था। देश के कोने-कोने तक जेके सीमेंट को पहुंचाने का श्रेय यदुपति सिंघानिया को ही दिया जाता है। दुनिया की तीसरी बस सबसे बड़ी वाइट सीमेंट कंपनी के मुखिया के तौर पर काम करने वाले यदुपति सिंघानिया ने आईआईटी कानपुर सेठ टेक्नोलॉजी में बैचलर्स डिग्री हासिल की थी।

इसके बाद यदुपति सिंघानिया अपने फैमिली बिजनेस से जुड़ गए। यदुपति सिंघानिया को सीमेंट किंग के नाम से भी जाना जाता था। भारतीय अर्थव्यवस्था में सीमेंट को एक बड़ा कारोबार बनाने में यदुपति सिंघानिया का अहम योगदान माना जाता है। अब जेके सीमेंट की कमान यदुपति सिंघानिया की मां सुशीला सिंघानिया के हाथों में आ गई है। जेके सीमेंट 45 साल से ज्यादा ‌समय से सीमेंट के क्षेत्र में काम कर रही है । कंपनी ने अपना पहला ग्रे सीमेंट प्लांट 1975 में राजस्थान के नीमबहेड़ा लगाया था।

यदुपति सिंघानिया के नेतृत्व में जेके सीमेंट ने सीमेंट प्लांट्स की संख्या बढ़ाने और नई तकनीक अपनाने पर जोर दिया। खुद यदुपति सिंघानिया ने भारत समेत दुनिया के कई जगहों पर जाकर सीमेंट मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स में काम देखा। वहां नई तकनीक को समझा और फिर प्लांट्स की संख्या बढ़ाने और तकनीक को अपनाने का काम किया। यदुपति सिंघानिया को देश के उन कारोबारियों में माना जाता था जिन्हें खुद बिजनेस से लेकर तकनीक तक की पूरी जानकारी थी। उनके नेतृत्व के कारण आज जेके व्हाइट सीमेंट की दुनियाभर में पहुंच है। व्हाइट सीमेंट के उत्पादन में जेके सीमेंट दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में से एक है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एलआईसी में घोटाले के आरोपों पर जवाहरलाल नेहरू को लेना पड़ा था अपने वित्त मंत्री का इस्तीफा, दामाद फिरोज गांधी ने किया था खुलकर विरोध
2 पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम: इस बार सबसे ज्यादा किसानों को मिलेगी 2,000 रुपये की किस्त, यूं चेक करें कहां अटकी आपकी रकम
3 मुंबई एयरपोर्ट में 74% हिस्सेदारी ख़रीद दुनिया के ‘इन्फ़्रा किंग’ बने गौतम अडानी, जानिए कितना फैला है साम्राज्य
ये पढ़ा क्या?
X