ताज़ा खबर
 

सरकार की नई पोलिसी- 11 साल पुराना वाहन लौटाइए, नए पर 8-12 प्रतिशत की छूट पाइए

सरकार ने वाहन प्रदूषण कम करने के लिये 11 साल पुराने वाहनों को सड़कों से हटाने के लिये एक नई नीति का प्रस्ताव किया है। ऐसे पुराने वाहन को लौटाने और नया वाहन खरीदने पर खरीदार को दाम में 8 से 12 प्रतिशत की छूट का प्रस्ताव किया है।

Author नई दिल्ली | May 28, 2016 12:21 AM
पुराने वाहनों को सड़कों से हटाने के लिये एक सरकार ने दिया नई नीति का प्रस्ताव

सरकार ने वाहन प्रदूषण कम करने के लिये 11 साल पुराने वाहनों को सड़कों से हटाने के लिये एक नई नीति का प्रस्ताव किया है। ऐसे पुराने वाहन को लौटाने और नया वाहन खरीदने पर खरीदार को दाम में 8 से 12 प्रतिशत की छूट का प्रस्ताव किया है।

समझा जाता है कि करीब तीन करोड़ वाहन 11 साल पुराने हैं जो सड़कों पर चल रहे हैं। प्रस्तावित स्वैच्छिक वाहन आधुनिकीकरण नीति के तहत जो लाभ उपलब्ध होंगे वह मुख्य तौर पर तीन तरह से आयेंगे। पुराने वाहन की कीमत, आटोमोबाइल विनिर्माता द्वारा विशेष रियायत और उत्पाद शुल्क में आंशिक छूट के रूप में मिलेंगे।

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने इस नीति के इस मसौदे पर अगले एक पखवाड़े के दौरान सार्वजनिक तौर पर टिप्पणियां आमंत्रित की हैं। इस नीति को ‘स्वैच्छिक वाहन आधुनिकीकरण योजना’ नाम दिया गया है। इसके तहत 31 मार्च 2005 को अथवा उसके बाद खरीदे गये वाहनों को लौटाने पर नये वाहन की खरीद पर छूट दी जायेगी।

इसमें कहा गया है, ‘इस परिभाषा के तहत कुल वाहन जिनके स्थान पर नये वाहन खरीदे जा सकते हैं उनकी संख्या 2.80 करोड़ तक हो सकती है।’ मंत्रालय ने कहा कि योजना के तहत जो लोग अपने पुराने वाहनों के बदले नये वाहन खरीदेंगे उन्हें नये वाहन की खरीद पर उसकी कुल लागत में 8 से 12 प्रतिशत तक की छूट मिल सकती है।

इसमें कहा गया है कि जो नया वाहन खरीदा जाएगा वह पर्यावरण के लिहाज से भारत मानक-4 के अनुपालन वाला होना चाहिये। भारत मानक-चार अप्रैल 2017 से लागू होने जा रहा है। नीति के मसौदे में कहा गया है कि इससे आटोमोबाइल विनिर्माताओं की बिक्री बढ़ेगी। उनकी उत्पादन क्षमता का अधिक इस्तेमाल होगा और विनिर्माता सरकार को भी इसमें समर्थन देंगे। ग्राहकों को भी योजना के तहत वित्तीय लाभ मिलेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App