ताज़ा खबर
 

अगले निर्णय तक कोई भी लोन न हो एनपीए घोषित, मोराटोरियम पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश

सुप्रीम कोर्ट ने मोराटोरियम के दौरान ब्याज वसूली के मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि जिन लोन खातों को 31 अगस्त तक एनपीए घोषित नहीं किया गया है। उन्हें अगले आदेश तक एनपीए डिक्लेयर न किया जाए।

Author Edited By यतेंद्र पूनिया नई दिल्ली | Updated: September 4, 2020 9:53 AM
loan emi moratorium Aलोन मोराटोरियम के दौरान ब्याज वसूली पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश

व्यक्तिगत और व्यवसायिक कर्जदाताओं को बड़ी राहत देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि उसकी ओर से नए आदेश तक किसी भी लोन अकाउंट को एनपीए नहीं घोषित किया जाना चाहिए। शीर्ष अदालत ने मोराटोरियम की अवधि के दौरान ब्याज की वसूली को लेकर दायर याचिकाओं की सुनवाई करते हुए यह आदेश दिया। शीर्ष अदालत ने कहा अगले आदेश तक या मोराटोरियम मामले में फैसला आने तक किसी भी लोन अकाउंट को एनपीए में न डाला जाए। अदालत ने इंडियन बैंकर्स एसोसिएशन की ओर से किसी भी खाते को एनपीए होने से बचाने के लिए दो महीने के मोराटोरियम की बात के बाद यह आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया कि जिन लोन खातों को 31 अगस्त तक एनपीए घोषित नहीं किया गया है। उन्हें अगले आदेश तक एनपीए डिक्लेयर न किया जाए।

जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली बेंच ने कर्जधारकों के हितों का ध्यान रखते हुए अंतरिम ऑर्डर पास कर बैंकों द्वारा लोन अकाउंट को एनपीए घोषित करने पर रोक लगा दी। कोरोना के कारण लोन रिपेमेंट करने में लाखों कर्जधारकों को फंड की व्यवस्था करने में बहुत दिक्कत हो रही थी। इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट अगली सुनवाई 10 सितंबर को करेगा। आपको बता दें अगर किसी खाते को एनपीए घोषित कर दिया जाता है तो फिर बैंक बंधक प्रॉपर्टी को बेचकर भी कर्ज की रिकवरी कर सकते हैं।

इससे पहले कर्जदाताओं ने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी कि लॉकडाउन के कारण पिछले 6 महीने से उन्हें अपने बिजनेस में कुछ हासिल नहीं हुआ। इसके बावजूद उनसे ब्याज और लंबित किस्तों पर ब्याज पर ब्याज लिया जा रहा है। उन्होंने कहा था जब मोराटोरियम पीरियड खत्म हो जाएगा तो उनपर कंपाउंड इंटरेस्ट के साथ विलंबित किश्तों का बोझ बढ़ जाएगा जिसका भुगतान करना उनके लिए मुश्किल होगा। ऐसे में बैंक हमारे लोन को नॉन प्रफोरमिंग एसेट घोषित कर सकते हैं।

वित्त मंत्री ने बैंकों से कहा, 15 सितंबर तक लाएं राहत स्कीम: इस बीच वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बैंकों के प्रमुखों से मुलाकात कर कहा है कि वे कोरोना काल में संकट में घिरे बिजनेस के लिए 15 सितंबर तक लोन रिस्ट्रक्चर की स्कीम लेकर आएं। इसके साथ ही उन्होंने बैंकों से कहा कि वे कर्जधारकों का सपोर्ट करें। उन्होंने कहा कि बैंकों को ग्राहकों से बात करनी चाहिए और संकट में घिरे बिजनेस को उबारने के लिए प्लान पेश करना चाहिए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 वित्त वर्ष 2020-21 में माइनस 11 पर्सेंट होगी जीडीपी, तिमाही नतीजों में हाहाकार के बाद एसबीआई ने जताई आशंका
2 किस्तों में राहत और ब्याज एक साथ नहीं चल सकते, मोराटोरियम पर सुप्रीम कोर्ट ने की सख्त टिप्पणी
3 लोन पर मोराटोरियम लिया था तो रखें ध्यान, ऐसा करने पर गिर सकता है क्रेडिट स्कोर, कर्ज मिलना होगा मुश्किल
ये पढ़ा क्या?
X