ताज़ा खबर
 

नोटबंदी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने आरबीआई और केंद्र से मांगा जवाब, 10 मार्च को होगी अगली सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई करते हुए सोमवार को केंद्र सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को नोटिस भेजा है।

Tushar Gandhi, Mahatma Gandhi, Mahatma Gandhi Murder Case, Supreme Court, Resumption of Mahatma Gandhi Murder, Tushar Gandhi Reached Supreme Court, Tushar Gandhi Protest of Resumption of Mahatma Gandhi Murder, National Newsतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

सुप्रीम कोर्ट ने एक याचिका की सुनवाई करते हुए सोमवार को केंद्र सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को नोटिस भेजा है। यह नोटिस 31 मार्च 2017 तक नोटों को जमा ना करने की अनुमति नहीं देने के लिए भेजा गया है। सुप्रीम कोर्ट में दाखिल जनहित याचिका में कहा है कि देश की प्रधानमंत्री और आरबीआई ने घोषणा की थी जो लोग किसी कारण से 31 दिसंबर 2016 तक पुराने 500 और 1000 के नोट जमा नहीं करा पाए वो 31 मार्च 2017 तक आरबीआई में जमा करा सकते हैं। लेकिन बाद में आरबीआई यह छूट सिर्फ एनआरआई को ही दी। आम लोगों के लिए इसे बंद कर दिया गया। इस याचिका में कहा गया है कि शार्ष कोर्ट 500 और 1000 के नोटों को जमा करने के लिए 31 मार्च तक का समय दे। अब शीर्ष अदालत में अब इस मामले की अगली सुनवाई 10 मार्च को होगी।

8 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 और 1000 रु नोटों और बंद कर दिया था। इसके लिए मोदी सरकार ने दलील दी थी कि ऐसा करने से आतंकवाद से लड़ने और काले धन पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी। सरकार ने 500 और 1000 के नोटों के जमा करने के लिए लिए 31 दिसंबर तक का समय तय किया था। सरकार की घोषणा के बाद 31 दिसंबर के बाद लोग पुराने नोट लेकर आरबीआई गए लेकिन भारतीय रिजर्व बैंक ने ये नोट लेने से साफ मना कर दिया। भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा कि जो भारतीय 2 नवंबर से 30 दिसंबर, 2016 तक विदेश में थे केवल वहीं इस सुविधा का लाभ उठा सकता हैं। हालांकि इसके लिए उन्हें इस बात का सबूत देना होगा कि वो 8 नवंबर से 31 दिसंबर तक विदेश में थे। जिस कारण वो नोट बदलवाने की प्रक्रिया में शामिल नहीं हो पाए। इतना ही नहीं विदेश यात्रा का कारण भी बताने के निर्देश दिए गए थे।

बता दें सुप्रीम कोर्ट में ये सुनवाई चीफ जस्टिस जे एस खेहर की अगुआई वाली बेंच में हुई।  रही है। कोर्ट ने याचिकाकर्ता शरद मिश्रा को नोटिस की एक कॉपी केंद्र और आरबीआई से भेजने के भी आदेश दिए गए हैं। भारतीय रिजर्व बैंक ने अपने पांच कार्यालयों (मुंबई, नई दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता और नागपुर) में जमा कराने की घोषणा की थी। लेकिन अब भारतीय रिजर्व बैंक ने इस सिर्फ एनआरआई के लिए बता दिया जिसके बाद याचिका दायर की गई थी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘नोटबंदी से सस्ती होंगी सौर बिजली की दरें’
2 शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में 217 अंकों का उछाल, डॉलर के मुकाबले रुपया हुआ मजबूत
3 BSE ने सूचीबद्ध कंपनियों के लिए वार्षिक शुल्क बढ़ाया, अप्रैल से होगा लागू
ये पढ़ा क्या?
X