ताज़ा खबर
 

State Bank of India कर रहा है संपत्तियों की मेगा-नीलामी, आप भी अपने पड़ोस में खरीद सकते हैं प्रॉपर्टी, जानिए- कैसे लगा सकते हैं बोली

State Bank of India e-auction: एसबीआई ने डिफॉल्टरों पर बकाया को वसूलने के लिए 26 फरवरी, 2020 को उनकी संपत्तियों की नीलामी का फैसला लिया है। ये प्रॉपर्टीज चेन्नै, मुंबई, बेंगलुरु और दिल्ली से लेकर देश के तमाम हिस्सों में फैली हुई हैं।

एसबीआई की ई-नीलामी में आप भी ले सकते हैं हिस्सा

E-auction of properties by SBI: यदि आप अपने पड़ोस में कोई आवासीय परिसर खरीदना चाहते हैं या कमर्शियल प्रॉपर्टी की तलाश में हैं तो स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की ई-नीलामी में हिस्सा ले सकते हैं। एसबीआई ने डिफॉल्टरों पर बकाया को वसूलने के लिए 26 फरवरी, 2020 को उनकी संपत्तियों की नीलामी का फैसला लिया है। ये प्रॉपर्टीज चेन्नै, मुंबई, बेंगलुरु और दिल्ली से लेकर देश के तमाम हिस्सों में फैली हुई हैं। एसबीआई ने इसके लिए अपनी वेबसाइट के अलावा अखबारों और सोशल मीडिया में भी विज्ञापन दिए हैं।

एसबीआई ने अपनी बेवसाइट पर दी गई जानकारी में बताया है कि इच्छुक ग्राहक नजदीकी बैंक शाखा में भी इस संबंध में संपर्क कर सकते हैं। बैंक की ओर से नीलामी वाली संपत्तियों की नजदीकी शाखा पर जानकारी ली जा सकती है, जहां संबंधित अधिकारी पूरा अपडेट देंगे। यदि आप भी इस नीलामी में हिस्सा लेना चाहते हैं तो आइए जानते हैं क्या है इसकी प्रक्रिया…

इसके लिए आपको EMD यानी अर्नेस्ट मनी डिपॉजिट करना होगा।

संबंधित शाखा को अपनी केवाईसी के लिए दस्तावेज सौंपने होंगे।

वैध डिजिटल सिग्नेचर की जरूरत होगी। यह काम आप ई-नीलामीकर्ताओं या फिर अन्य किसी वैध एजेंसी की मदद से करा सकते हैं।

ईएमडी जमा कराने और फिर केवाईसी कराने के बाद बोली में रुचि रखे वाले लोगों को बैंक की ओर से लॉग-इन आईडी और पासवर्ड दिया जाएगा। ये दोनों चीजें ईमेल के जरिए भेजी जाएंगी।

इसके बाद आपको बोली के दिन यानी 26 फरवरी, 2020 को तय समय पर लॉग-इन करना होगा और बोली प्रक्रिया में हिस्सा लेना होगा।

इन संपत्तियों की वैधता या मालिकाना हक को लेकर आपको किसी भी तरह की चिंता करने की जरूरत नहीं है। एसबीआई ने कोर्ट के आदेशों के बाद ही इन संपत्तियों की नीलामी का फैसला लिया है। यही नहीं नीलामी वाली संपत्तियां फ्रीहोल्ड हैं या लीज पर हैं, इनके बारे में भी पूरी जानकारी दी गई है ताकि आप चाहें तो मौके पर जाकर संपत्ति देख सकें।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सरकारी बकाया न चुकाने पर टेलीकॉम कंपनियों पर बरसा सुप्रीम कोर्ट, कहा- क्या अदालत बंद कर दें, देश में कोई कानून बचा है या नहीं?
2 Fitness linked health insurance: फिटनेस है बेहतर तो सस्ते में होगा आपका स्वास्थ्य बीमा, जानिए- कैसे कंपनी तय करेगी आपकी सेहत और कितनी होगी बीमा की कीमत
3 Vodafone Idea को लगातार छठी तिमाही में घाटा, Reliance Jio के चलते हुआ 6,439 करोड़ रुपये का नुकसान
ये पढ़ा क्या?
X