ताज़ा खबर
 

स्पाइसजेट को लगा झटका, परिचालन हुआ ठप्प

नकदी संकट से जूझ रही विमानन कंपनी स्पाइसजेट का परिचालन आज ठप्प रहा। ऐसा तेल विपणन कंपनियां द्वारा जेट र्इंधन की आपूर्ति नहीं करने के कारण हुआ। सूत्रों ने पीटीआई-भाषा से कहा ‘‘तेल कंपनियों के साथ ईंधन आपूर्ति से जुड़े मुद्दे के कारण आज सुबह से विमानन कंपनी के एक भी विमान ने उड़ान नहीं […]

Author December 17, 2014 12:44 PM
Spicejet ने सीमित अवधि के लिए पांच लाख सीटों की बुकिंग शुरू की है जिनकी कीमत 1,499 रुपए से शुरू होगी। (एक्सप्रेस फोटो – कमाल सईद)

नकदी संकट से जूझ रही विमानन कंपनी स्पाइसजेट का परिचालन आज ठप्प रहा। ऐसा तेल विपणन कंपनियां द्वारा जेट र्इंधन की आपूर्ति नहीं करने के कारण हुआ।

सूत्रों ने पीटीआई-भाषा से कहा ‘‘तेल कंपनियों के साथ ईंधन आपूर्ति से जुड़े मुद्दे के कारण आज सुबह से विमानन कंपनी के एक भी विमान ने उड़ान नहीं भरी है।’’

उन्होंने कहा कि सरकारी तेल विपणन कंपनियों ने अब तक स्पाइसजेट को दो-सप्ताह के रिण सुविधा के आधार पर जेट र्इंधन की आपूर्ति फिर से शुरू करने के संबंध में फैसला नहीं किया है।

संकटग्रस्त विमानन कंपनी के बचाव में नागर विमानन मंत्रालय ने कल कहा था कि वह तेल कंपनियों और हवाईअड्डा परिचालकों को गुजारिश करेगा कि स्पाइसजेट को 15 दिन की रिण सुविधा दे ताकि विमानन कंपनी को बंद होने से बचाया जा सके।

विमानन मंत्रालय ने कहा था कि स्पाइसजेट का परिचालन जारी रखने की प्रक्रिया के अंग के तौर पर वह भारतीय बैंकों-वित्तीय संस्थानों से विमानन कंपनी को 600 करोड़ रच्च्पये तक का रिण देने के लिए कह सकता है।

इसके अलावा वह वित्त मंत्रालय से भी विशेष व्यवस्था के तहत कार्य पूंजी के लिए वाह्य वाणिज्यिक उधारी :ईसीबी: की मंजूरी के संबंध में बात करेगा।
इन पहलों का प्रस्ताव हालांकि इस शर्त के साथ किया गया है कि संकटग्रस्त विमानन कंपनी जल्द से जल्द पूंजी डालने के प्रति प्रतिबद्धता जताएगी।

ये पहलें स्पाइस जेट के मुख्य परिचालन अधिकारी संजीव कपूर के सन समूह की मुख्य वित्त अधिकार एस एल नारायण के साथ नागर विमानन मंत्री और नागर विमानन महानिदेशालय प्रभात कुमार के साथ हुई मुलाकात के बाद की गई हैं जिसमें उन्होंने संकट से उबरने में सरकार की मदद मांगी थी।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App