ताज़ा खबर
 

SpiceJet एयरलाइंस ने कर्मचारियों की सैलरी में की 30 पर्सेंट तक की कटौती, गोएयर और इंडिगो पहले ही चला चुकी हैं कैंची

SpiceJet salary cut upto 30 percent: सस्ती उड़ानों के लिए मशहूर एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट ने अपने कर्मचारियों की मार्च की सैलरी में 10 से 30 फीसदी तक की कटौती का ऐलान किया है।

Author Edited By सूर्य प्रकाश नई दिल्ली | Published on: March 31, 2020 4:42 PM
स्पाइसजेट ने कर्मचारियों की सैलरी में की 30 पर्सेंट तक की कटौती

SpiceJet salary cut upto 30 percent: सस्ती उड़ानों के लिए मशहूर एयरलाइन कंपनी स्पाइसजेट ने अपने कर्मचारियों की मार्च की सैलरी में 10 से 30 फीसदी तक की कटौती का ऐलान किया है। कंपनी के चेयरमैन अजय सिंह ने सबसे ज्यादा अपनी ही सैलरी में 30 पर्सेंट कटौती का फैसला लिया है। मंगलवार को कंपनी ने अपने सभी कर्मचारियों को ईमेल भेजकर सैलरी में कटौती किए जाने की जानकारी दी है। एयरलाइन ने अपने ईमेल में लिखा, ‘स्पाइसजेट मैनेजमेंट ने कंपनी के कर्मचारियों की मार्च महीने की सैलरी में 10 से 30 पर्सेंट तक की कमी करने का फैसला लिया है। हमारे चेयरमैन और मैनेजिंग डाय़रेक्टर अजय सिंह ने सबसे ज्यादा अपनी ही सैलरी में 30 फीसदी की कमी का फैसला लिया है।’

स्पाइसजेट से पहले इंडिगो और गोएयर जैसी कंपनियां पहले ही कर्मचारियों की सैलरी में कमी किए जाने का ऐलान कर चुके हैं। कंपनी ने कर्मचारियों को भेजे मेल में लिखा, ‘यह बेहद ही कठिन समय है और यह जरूरी हो गया है कि इस चुनौती से निपटने के लिए कुछ जरूरी कदम उठाए जाएं।’ स्पाइसजेट ने कहा कि इस कठिन समय का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि ज्यादातर कंपनियों ने अपने कर्मचारियों की सैलरी में कटौती का फैसला लिया है।

कंपनी ने कहा कि दुर्भाग्य से स्पाइसजेट भी इस कठिन समय को झेलने में पूरी तरह से सक्षम नहीं है। दुनिया भर में कोरोना वायरस के संक्रमण के संकट के चलते उड़ानों को लगभग कैंसल कर दिया गया है। इससे एविएशन सेक्टर को बड़ा नुकसान पहुंचा है। कंपनी ने कहा कि इस संकट के दौर में स्वयं को बचाए रखने के लिए कठिन फैसले लेना जरूरी है। बता दें कि स्पाइसजेट ने अन्य तमाम एयरलाइन कंपनियों की तरह ही अप्रैल महीने के अंत तक अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को पूरी तरह से सस्पेंड कर दिया है।

गौरतलब है कि 21 दिनों के लॉकडाउन के चलते कारोबारी गतिविधियां पूरी तरह से ठप हैं। इसकी वजह से अर्थव्यवस्था कमजोर हुई है। यही नहीं तेलंगाना और महाराष्ट्र की सरकार ने भी मार्च के महीने में कर्मचारियों की सैलरी में कटौती का फैसला लिया है। दोनों ही राज्य सरकारों ने कहा कि लॉकडाउन के चलते उनके राजस्व में कमी आई है, ऐसे में उनके लिए सैलरी कटौती का फैसला जरूरी हो गया था।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 एलआईसी के कैंसर कवर प्लान में सिर्फ 7 रुपये रोजाना के निवेश पर पाएं 10 लाख रुपये की मदद, जानें- क्या हैं फायदे और नियम
2 कोरोना महामारी के संकट से दुनिया में आएगी महामंदी, फिर भी फीकी नहीं पड़ेगी भारत की चमक: संयुक्त राष्ट्र
3 तेलंगाना में सरकारी कर्मचारियों की सैलरी में 75 पर्सेंट तक कटौती, महाराष्ट्र में दो टुकड़ों में मिलेगी मार्च की सैलरी, कोरोना लॉकडाउन के चलते राजस्व में कमी का दिया हवाला