ताज़ा खबर
 

महंगाई की मार ने हदें की पार! साल भर के भीतर खाद्य तेलों के 30% तक बढ़ गए दाम

सूत्रों ने बताया कि पिछले छह महीनों से मलेशिया से ताड़ के तेल उत्पादन में कमी अन्य खाद्य तेलों की बढ़ी कीमतों के कारणों में से एक है।

oil price in indiaतस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (ट्विटर फोटो)

देश में खाद्य तेल की लगातार बढ़ती कीमतों ने केंद्र सरकार ने चिंता बढ़ा दी है। सभी खाद्य तेलों जैसे मूंगफली, सरसों, वनस्पती, ताड़ की कीमतों में बढ़ोतरी जारी है। इधर सोयाबीन और सूरजमुखी के तेल की कीमतें पिछले एक साल की तुलना में औसततन 20 से 30 फीसदी तक बढ़ गई हैं।

सूत्रों ने बताया कि इस संबंध में गृह मंत्री अमित शाह ने सप्ताह की शुरुआत में मंत्रियों संग बैठक की। बैठक में कहा गया कि करीब 30 हजार टन प्याज के आयात के चलते देश में प्याज की कीमतें स्थिर हो गई हैं। आलू की कीमतें भी स्थिर हुई हैं। हालांकि लगातार खाद्य तेल की बढ़ती कीमतों चिंता बढ़ा दी है।

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय की मूल्य निगरानी सेल से मिले डेटा से पता चलता है कि गुरुवार को सरसों के तेल की औसत कीमत 120 रुपए किलो रही जबकि पिछले साल इसी समय तेल की कीमत 100 रुपए प्रतिकिलो थी। वनस्पती की कीमत पर भी 75.25 रुपए से बढ़कर 102.5 किलोग्राम पहुंच गई।

सोयाबीन का तेल 110 रुपए प्रतिकिलो बिक रहा है जबकि अक्टूबर, 2019 में ये 90 के भाव से बिक रहा था। सूरजमुखी और ताड़ के तेल में भी इसी तरह की बढ़ोतरी देखी गई।

सूत्रों ने बताया कि पिछले छह महीनों से मलेशिया से ताड़ के तेल उत्पादन में कमी अन्य खाद्य तेलों की बढ़ी कीमतों के कारणों में से एक है। देश में करीब 70 फीसदी ताड़ के तेल का इस्तेमाल खाद्य उद्योग द्वारा किया जाता है, जो इसका सबसे बड़ा थोक उपभोक्ता भी है।

उद्योग जगत से जुड़े सूत्रों ने बताया कि ताड़ के आयात शुल्क को कम करना है या नहीं, इस पर सरकार को विचार करना है, क्योंकि ताड़ तेल की बढ़ती कीमतें सीधे अन्य खाद्य तेलों पर प्रभाव डालती है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 एलआईसी की हिस्सेदारी बेचने को मार्च तक आईपीओ लाएगी सरकार, विनिवेश का टारगेट कम रहने पर लिया फैसला
2 मोदी सरकार की ‘मेक इन इंडिया’ स्कीम के बाद भी भारत की जीडीपी में इंडस्ट्री का योगदान 20 साल में सबसे कम
3 जावा को लेकर आनंद महिंद्रा ने किया यह ऐलान, 90 साल बाद सच होगा मूल मलिक का सपना
ये पढ़ा क्या?
X