ताज़ा खबर
 

LIC एजेंट ने 65 साल की उम्र में शुरू की थी सोनालिका ट्रैक्टर कंपनी, आज धनकुबेरों में शामिल, पढ़ें दिलचस्प कहानी

लक्ष्मणदास मित्तल की आईटीएल का उत्तर भारतीय राज्यों में मजबूत कारोबार है। पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गांवों में सोनालिका के ट्रैक्टर किसानों की पसंद रहे हैं। कंपनी साल भर में 3 लाख से ज्यादा ट्रैक्टर भी बनाती है।

Author Edited By यतेंद्र पूनिया नई दिल्ली | Updated: October 1, 2020 11:35 AM
lachchman das mittalकभी एलआईसी एजेंट के तौर पर काम करते थे लक्ष्मण दास मित्तल (फोटो: फोर्ब्स इंडिया)

कभी एलआईसी के एजेंट रहे सोनालिका ट्रैक्टर्स के फाउंडर लक्ष्मण दास मित्तल को हुरुन ने अमीर भारतीयों की सूची में 164वें पायदान पर रखा है। दुनिया के 120 देशों में ट्रैक्टरों का निर्यात करने वाले सोनालिका ग्रुप की स्थापना उन्होंने 1969 में की थी। तब उन्होंने कृषि उपकरण तैयार करने के लिए कंपनी बनाई थी, लेकिन फिर 1995 में उन्होंने ट्रैक्टर तैयार करने का काम शुरू किया। देश में ‘द ट्रैक्टर टाइटन’ के नाम से पहचान रखने वाले लक्ष्मण दास मित्तल कहते हैं कि उन्हें और उनके बेटों को ट्रैक्टर के एक-एक इंच की जानकारी है। देश की मशहूर ट्रेक्टर कंपनी सोनालिका ने पिछले दो दशकों में भारतीय मार्केट में जबरदस्त पैठ बनाई है। वक्त के साथ विश्वसनीयता के कारण किसानों का सोनालिका पर विश्वास भी बढ़ा है।

सोनालिका की शुरुआत पंजाब के लक्ष्मणदास मित्तल ने 1995 में की थी। सोनालिका की शुरुआत करने से पहले लक्ष्मणदास मित्तल बीमा कंपनी एलआईसी के एजेंट थे। लक्ष्मणदास मित्तल ने अपने बेटों के साथ मिलकर इंटरनेशनल ट्रैक्टर लिमिटेड (ITL) को आज भारत का तीसरा सबसे बड़ा ट्रेक्टर निर्माता बना दिया है जिसका राजस्व 650 मिलियन डॉलर से ज्यादा है। कभी एलआईसी के बीमा एजेंट रहे लक्ष्मणदास मित्तल का नाम आज देश के धनकुबेरों में शामिल होता है। इंटरनेशनल ट्रैक्टर्स लिमिटेड में लक्ष्मणदास मित्तल के लगभग 70 फ़ीसदी शेयर हैं।

लक्ष्मणदास मित्तल की आईटीएल का उत्तर भारतीय राज्यों में मजबूत कारोबार है। पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के गांवों में सोनालिका के ट्रैक्टर किसानों की पसंद रहे हैं। कंपनी साल भर में 3 लाख से ज्यादा ट्रैक्टर भी बनाती है। इसके अलावा 50 हार्सपावर से ज्यादा की मशीनों में लक्ष्मणदास मित्तल की कंपनी का दबदबा रहा है। लगभग 90 साल की उम्र में भी लक्ष्मणदास मित्तल कंपनी का कामकाज देखते हैं। इसके अलावा लक्ष्मणदास मित्तल अपना पारिवारिक बिजनेस सोनालिका इंप्लीमेंट्स को भी संभालते हैं। सोनालिका इंप्लीमेंट्स बुआई की मशीन ( सीड ड्रिल्स) और गेहूं के थ्रेसर बनाती है।

लक्ष्मणदास मित्तल के तीन बेटे हैं, सबसे बड़े अमृत सागर कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट है, जबकि तीसरे बेटे दीपक मित्तल कंपनी के एमडी है। दूसरे बेटे न्यूयॉर्क में डॉक्टर हैं। इसके अलावा लक्ष्मणदास मित्तल के पोते सुशांत और रमन मार्केटिंग, प्रोडक्ट डिजाइन, इंवेस्टर रिलेशन और इंटरनेशनल बिजनेस संभालते हैं जबकि उनके एक और पोते राहुल परिवार का रियल एस्टेट बिजनेस देखते हैं। लक्ष्मणदास मित्तल की बेटी उषा सांगवान एलआईसी की एमडी रह चुकी हैं। उषा सांगवान एलआईसी की पहली महिला एमडी भी थी। दिलचस्प है कि इसी कंपनी में पहले लक्ष्मणदास मित्तल एजेंट हुआ करते थे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पीएनबी को सिनटेक्स इंडस्ट्रीज ने लगाया 1,203 करोड़ रुपये का चूना, जानें- क्या है इस कंपनी का कारोबार
2 ड्राइविंग लाइसेंस, आरसी से लेकर ई-चालान तक, ड्राइविंग से जुड़े नियमों में आज से हुए ये अहम बदलाव
3 7th Pay Commission: डीए में इजाफे पर रोक का फैसला हुआ वापस? जानें- ऐसी खबरों पर सरकार ने दिया क्या जवाब
यह पढ़ा क्या?
X