ताज़ा खबर
 

शेयर समीक्षा: मुद्रास्फीति के आंकड़ों व वैश्विक संकेतों से तय होगी बाजार की दिशा

निवेशकों की नजर इस बात पर अधिक रहेगी कि देश में मॉनसून की क्या प्रगति रहती है।

Author नई दिल्ली | Published on: June 12, 2016 7:41 PM
शेयर बाजार (फाइल फोटो)

शेयर बाजार के विशेषज्ञों ने कहा कि मुद्रास्फीति के आंकड़े, मॉनसून के बरसात की प्रगति और अमेरिकी फेडरल रिजर्व की बैठक सहित प्रमुख वैश्विक घटनाक्रम चालू सप्ताह में शेयर बाजार की दिशा को निर्धारित करेंगे। ट्रेड स्मार्ट ऑनलाईन के संस्थापक निदेशक विजय सिंघानिया ने कहा, ‘प्रमुख वैश्विक घटनाक्रम और मॉनसूनी बरसात की प्रगति इस सप्ताह शेयर बाजार की दिशा को निर्धारित करेंगे। निवेशकों की नजर इस बात पर अधिक रहेगी कि देश में मॉनसून की क्या प्रगति रहती है।’
सप्ताह के दौरान जिन प्रमुख वृहत आर्थिक आंकड़ों की घोषणा की जानी है उनमें सोमवार (13 जून) को जारी किया जाने वाला उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति आंकड़ा और मंगलवार (14 जून) को मई महीने के लिए मुद्रास्फीति आधारित थोक बिक्री मूल्य सूचकांक आधारित मु्रदास्फीति का आंकड़ा शामिल हैं।

सिंघानिया ने कहा कि वृहद आर्थिक आंकड़ों और वैश्विक बाजारों के रुख के अलावा डॉलर के मुकाबले रच्च्पये की घटबढ़ और कच्चे तेल कीमतों के उतार चढ़ाव निकट भविष्य में बाजार के मिजाज को तय करेंगे। कैपिटल वाया ग्लोबल रिसर्च के संस्थापक एवं सीईओ रोहित गाडिया ने कहा, ‘बाजार का उतार चढ़ाव 13 जून को घोषित किये जाने वाले मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर निर्भर करेंगे। 14 जून को थोकबिक्री मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े के कारण बाजार में उतार चढ़ाव आने की संभावना है। इसके साथ विदेशी निवेशकों के निवेश संबंधी गतिविधियों, वैश्विक बाजारों के उतार चढ़ाव बाजार की दिशा के लिए महत्वपूर्ण साबित होंगे।’

शेयर बाजार के विशेषज्ञों का कहना है कि बाजार को तात्कालिक संकेत के लिए इस सप्ताह फेडरल रिजर्व द्वारा दी जाने वाली टिप्पणियों का इंतजार रहेगा। इसके अलावा निवेशकों की यूरोपीय बाजारों के विकासक्रम पर निगाह रहेगी। मनीपाम के प्रबंध निदेशक और सीईओ निर्दोष गौड़ ने कहा, ‘इस सप्ताह मुख्यत: सीपीआई और डब्ल्यूपीआई आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े की घोषणा रहेगी और इसके अलावा सप्ताह के दौरान प्रमुख घटनाक्रम फेडरल रिजर्व की बैठक रहेगी।’

इस बीच पूंजी माल उत्पादन और विनिर्माण गतिविधियों में भारी गिरावट के कारण अप्रैल में औद्योगिक उत्पादन के आंकड़े 0.8 प्रतिशत घटा जो तीन महीनों के दौरान की पहली गिरावट है। बाजार सोमवार (13 जून) को शुक्रवार (10 जून) को बाजार के बंद होने के बाद आए आईआईपी आंकड़े पर अपनी प्रतिक्रिया देगा। पिछले सप्ताहांत के मुकाबले बीएसई सूचकांक में दो सप्ताह से जारी तेजी का रुख थम गया और यह 207.28 अंक की गिरावट के साथ 26,635.75 अंक पर बंद हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
जस्‍ट नाउ
X