ताज़ा खबर
 

बाजार में तेजी के सिलसिले पर लगा विराम, सेंसेक्स 9.10 अंक नीचे

निफ्टी सात अंक घट कर 8,400 के स्तर पर बंद हुआ।

Author नई दिल्ली | January 13, 2017 7:00 PM
शेयर बाजार में 13 जनवरी की स्थिति (पीटीआई ग्राफिक्स)

इन्फोसिस द्वारा वार्षिक आय वृद्धि का अनुमान घटाने की घोषणा से प्रभावित कारोबार के बीच बाजार में पिछले तीन कारोबारी सत्रों से जारी तेजी पर शुक्रवार (13 जनवरी) को विराम लग गया। उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 9.10 अंक प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 27,238.06 अंक तथा निफ्टी सात अंक घट कर 8,400 के स्तर पर बंद हुआ। बाजार में मजबूत स्थिति रखने वाली टीसीएस तथा इंफोसिस के शेयरों में गिरावट से बाजार पर असर पड़ा लेकिन सकारात्मक वृहत आर्थिक आंकड़े ने गिरावट पर कुछ अंकुश लगाया। इस सप्ताह के दौरान सेंसेक्स कुल मिला कर 478.83 अंक या 1.78 प्रतिशत तथा निफ्टी 156.55 अंक या 1.89 प्रतिशसत मजबूत हुए। तीस शेयरों वाला सूचकांक सुबह मजबूती के साथ 27,378.01 अंक पर खुला और बाद में 27,459.75 अंक तक चला गया। लेकिन बाद में इसमें गिरावट आयी और अंत में यह 9.10 अंक या 0.03 प्रतिशत की मामूली गिरावट के साथ 27,238.06 अंक पर चला गया। पिछले तीन सत्रों में सेंसेक्स 520.57 अंक मजबूत हुआ था। एनएसई निफ्टी भी 6.85 अंक या 0.08 प्रतिशत की गिरावट के साथ 8,400.35 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 8,461.05 तथा 8,373.15 अंक के दायरे में रहा। टीसीएस का शेयर बीएसई में 3.90 प्रतिशत की गिरावट के साथ 2,252 रुपए पर बंद हुआ। कंपनी के प्रमुख एन चंद्रशेखरन को टाटा संस का चेयरमैन बनाये जाने से कंपनी के भविष्य को लेकर चिंता के बीच यह गिरावट आयी। दूसरी सबसे बड़ी आईटी कंपनी इंफोसिस का शेयर 2.49 प्रतिशत घटकर 975.15 रुपए पर रहा। कंपनी की अपनी सालाना आय में वृद्धि का अनुमान 8-9 प्रतिशत से कम कर 8.4-8.8 प्रतिशत करने के बाद शेयर नीचे आया।

हालांकि बेंगलुरु की कंपनी का एकीकृत शुद्ध लाभ चालू वित्त वर्ष की अक्तूबर-दिसंबर तिमाही में सात प्रतिशत बढ़कर 3,708 करोड़ रुपए रहा। इससे पहले, नवंबर, 2016 में औद्योगिक उत्पादन में 5.7 प्रतिशत की वृद्धि के बाद लिवाली गतिविधियां बढ़ी। इससे पिछले साल नवंबर में इसमें 3.4 प्रतिशत की गिरावट आयी थी। वहीं खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 3.41 प्रतिशत पर आ गयी। जियोजीत बीएनपी परिबा फाइनेंशियल सर्विसेज लि. के मुख्य बाजार रणनीतिक आनंद जेम्स ने कहा, ‘सूचकांक में शामिल तीन कंपनियों के वित्तीय नतीजों की घोषणा के बाद आम धारणा हाल के लाभ को थामने की रही है। खासकर औद्योगिक उत्पादन तथा खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़े मदद मिली। लेकिन तिमाही नतीजे के बाद टीसीएस तथा इंफेसिस में गिरावट से लाभ पर अंकुश लगा। वैश्विक स्तर पर कमजोर रूप से भी धारणा प्रभावित हुई…..।’ वैश्विक स्तर पर एशिया के अन्य बाजारों में मिला-जुला रुख रहा। हांगकांग का हैंगसेंगे 0.45 प्रतिशत तथा जापान का निक्की 0.80 प्रतिशत मजबूत हुए। वहीं शंघाई कंपोजिट सूचकांक में 0.21 प्रतिशत की गिरावट आयी। यूरोप के प्रमुख बाजार फ्रांस, जर्मनी तथा ब्रिटेन के शेयर बाजारों में शुरुआती कारोबार में बढ़त रही। घरेलू बाजार में सेंसेक्स के 30 शेयरों में 17 नुकसान में रहे। नुकसान में रहने वाले प्रमुख शेयरों में टीसीएस (3.90 प्रतिशत), एनटीपीसी (1.55 प्रतिशत), मारुति सुजुकी (1.46 प्रतिशत), हीरो मोटो कॉर्प (1.14 प्रतिशत), डा. रेड्डीज (0.93 प्रतिशत) तथा बजाज ऑटो (0.86 प्रतिशत) शामिल हैं। वहीं दूसरी तरफ आईटीसी, गेल, एचडीएफसी, सन फार्मा और ओएनजीसी बढ़त में रहे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App