ताज़ा खबर
 

टाटा संस से भारी-भरकम पूंजी लेकर अलग होगा शापूरजी ग्रुप, कई कंपनियों के कुल कैपिटलाइजेशन से ज्यादा

टाटा ग्रुप की कुल 17 लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 12.96 लाख करो़ड़ रुपये के करीब है। ऐसे में शापूरजी पलोनजी ग्रुप के शेयरों की वैल्यूएशन 1.48 लाख करोड़ रुपये के करीब बैठती है।

shapoorji pallojniटाटा संस से भारी-भरकम पूंजी लेकर अलग होगा शापूरजी ग्रुप

टाटा संस और शापूरजी पलोनजी ग्रुप के बीच कई सालों से चल रहे विवाद का अब पटाक्षेप हो सकता है। शापूरजी पलोनजी ग्रुप ने टाटा संस से बाहर निकलने की बात कही है। देश के दो बड़े कॉरपोरेट समूहों के बीच बीते 70 साल के संबंध को खत्म करने की बात करते हुए शापूरजी पलोनजी ग्रुप ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में कहा कि अब टाटा संस से बाहर निकलने का वक्त आ गया है। यदि शापूरजी पलोनजी ग्रुप टाटा संस से बाहर निकलता है तो उसे भारी-भरकम रकम मिलेगी। टाटा संस को एसपी ग्रुप को 1,48,000 करोड़ रुपये की रकम देनी होगी। टाटा संस के कुल मार्केट कैपिटलाइजेशन को देखते हुए ग्रुप में इतनी हिस्सेदारी शापूरजी पलोनजी ग्रुप की है।

दरअसल इस महीने की शुरुआत में ही टाटा संस ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था और शीर्ष अदालत से मांग की थी कि शापूरजी पलोनजी ग्रुप को टाटा संस में उसकी शेयरहोल्डिंग की सिक्योरिटी पर कैपिटल जुटाने से रोका जाए। टाटा ग्रुप का कहना था कि टाटा संस के शेयरों में कोई बदलाव नहीं हो सकता है। इसके लिए पहला हक टाटा संस का ही है। उसकी ओर से इनकार के बाद ही इन्हें किसी अन्य को सौंपा जा सकता है। आखिर में मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट में शापूरजी पलोनजी ग्रुप ने कहा कि अब टाटा ग्रुप से अलग होना जरूरी हो गया है। कानूनी प्रक्रिया में के चलते लोगों की आजीविका और अर्थव्यवस्था पर असर पड़ रहा है।

टाटा ग्रुप का कहना है कि वह शापूरजी पलोनजी ग्रुप के शेयरों को खरीदने के लिए तैयार है। इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने शापूरजी पलोनजी ग्रुप की ओर से टाटा संस के अपने शेयरों को किसी और को स्थानांतरित करने पर रोक लगा दी है। एसपी ग्रुप की टाटा संस में 18.37 फीसदी हिस्सेदारी है। टाटा ग्रुप की कुल 17 लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैपिटलाइजेशन 12.96 लाख करो़ड़ रुपये के करीब है। ऐसे में शापूरजी पलोनजी ग्रुप के शेयरों की वैल्यूएशन 1.48 लाख करोड़ रुपये के करीब बैठती है।

कौन खरीद सकता है शापूरजी पलोनजी ग्रुप की हिस्सेदारी: एसपी ग्रुप ने कहा है कि अब टाटा ग्रुप से बाहर जाने का वक्त आ गया है। वहीं टाटा ग्रुप ने शापूरजी पलोनजी समूह की हिस्सेदारी को खरीदने की इच्छा जताई है। टाटा संस के आर्टिकल्स ऑफ एसोसिएशन के मुताबिक यदि कोई भी शेयरहोल्डर अपनी हिस्सेदारी बेचना चाहता है तो उसे सबसे पहले टाटा संस को ही ऑफर करना होगा। इससे बाद टाटा संस उसकी मार्केट वैल्यू को लेकर फैसला लेगी और शेयरहोल्डर को आवंटित करेगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 LIC और ईपीएफओ बेचेंगे अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस कैपिटल की संपत्ति, लोन वसूलने को लिया फैसला
2 दिल्ली की गली में एक दवाखाने से हुई थी हमदर्द की शुरुआत, आज 600 करोड़ से ज्यादा का टर्नओवर
3 दुनिया में सबसे ज्यादा भारत में कारों पर लगता है 50 पर्सेंट टैक्स, कई कंपनियां जता चुकी हैं ऐतराज
IPL 2020 LIVE
X