Sensex, Nifty, NSE, BSE Share Price Today India Live, Stock Market News 22st December 2017 Updates in Hindi: Sensex Up 184 Points and Nifty Also Raise Today - शेयर बाजार अपडेट, 22 दिसंबर 2017: 184 प्वाइंट्स चढ़कर रिकॉर्ड 33940 पर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी में भी बढ़त - Jansatta
ताज़ा खबर
 

शेयर बाजार अपडेट, 22 दिसंबर 2017: 184 प्वाइंट्स चढ़कर रिकॉर्ड 33940 पर बंद हुआ सेंसेक्स, निफ्टी में भी बढ़त

Sensex, Nifty, NSE, BSE Share/Stock Price Today: साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स में जहां 477.33 अंक या 1.42 प्रतिशत का लाभ रहा, वहीं निफ्टी में 159.75 अंक या 1.54 प्रतिशत की बढ़त दर्ज हुई।

Author मुंबई | December 22, 2017 5:18 PM
गुरुवार को सेंसेक्स में उछाल देखने को मिली।

बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स शुक्रवार को 33,940 अंक के नए रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के निफ्टी ने भी नया रिकॉर्ड बनाया और यह 10,493 अंक की नई ऊंचाई पर बंद हुआ। घरेलू संस्थागत निवेशकों की लिवाली से आईटी, प्रौद्योगिकी और पूंजीगत सामान कंपनियों के शेयरों में उछाल आया। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 33,768.47 अंक पर मजबूती के साथ खुलने के बाद 33,964.28 अंक के दिन के नए रिकॉर्ड स्तर को छूने के बाद अंत में 184.02 अंक या 0.55 प्रतिशत के लाभ से 33,940.30 अंक के नए रिकॉर्ड पर बंद हुआ।

इससे पहले 19 दिसंबर को सेंसेक्स ने 33,836.74 अंक का रिकॉर्ड बनाया था। इससे पिछले दो सत्रों में सेंसेक्स 80.46 अंक टूटा था। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 52.70 अंक या 0.50 प्रतिशत के लाभ से 10,493 अंक के नए रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। इससे पहले निफ्टी ने भी 19 दिसंबर को 10,463.20 अंक का रिकॉर्ड बनाया था। लगातार तीसरे सप्ताह सेंसेक्स और निफ्टी लाभ के साथ बंद हुए। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स में जहां 477.33 अंक या 1.42 प्रतिशत का लाभ रहा वहीं निफ्टी में 159.75 अंक या 1.54 प्रतिशत की बढ़त दर्ज हुई।

कारोबार के दौरान रुपया मजबूत होकर तीन महीने के उच्चस्तर पर पहुंचा जिससे बाजार की धारणा को बल मिला।सोमवार को क्रिसमस पर शेयर बाजार बंद रहेंगे। बता दें कि उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स शुक्रवार को मामूली गिरावट के साथ बंद हुआ था। वैश्विक स्तर पर नकारात्मक रुख के बीच सतर्क निवेशकों ने अपने पोर्टफोलियो में कटौती की। क्रिसमस और नए साल से पहले सतत पूंजी प्रवाह से भी खरीद गतिविधियां प्रभावित हुईं थीं। अमेरिका में कर सुधार विधेयक पारित होने के बाद एशिया तथा यूरोप के प्रमुख बाजारों में रुख ठंडा रहा था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App