ताज़ा खबर
 

Gujarat Election Results 2017: गुजरात चुनाव के रुझान आने के बाद सेंसेक्स 200 पॉइंट बढ़ा

Gujarat Election Chunav Result 2017 (गुजरात चुनाव परिणाम 2017): पिछले सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन 15 दिसंबर को शेयर बाजार 216 अंकों की बढ़त यानी 0.65 प्रतिशत मजबूत होकर 33,462.97 अंक पर बंद हुआ था।

प्रतीकात्मक चित्र

Gujarat Election Results 2017: गुजरात चुनावों के रुझान आते ही शेयर मार्केट खुलते ही बड़ी उठापटक शुरू हो गई। मार्केट खुलते ही सेसेक्स 650 पॉइंट नीचे गिर गया। वहीं निफ्टी भी करीब 70 अंकों की गिरावट के साथ खुला। हालांकि करीब एक घंटे के कारोबार के दौरान ही यह 200 पॉइंट ऊपर चढ गया। वहीं निफ्टी में भी 60 अंकों की बढ़त देखी गई। आपको बता दें कि पिछले सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन 15 दिसंबर को शेयर बाजार 216 अंकों की बढ़त यानी 0.65 प्रतिशत मजबूत होकर 33,462.97 अंक पर बंद हुआ था। कारोबार के दौरान यह एक समय 33,621.96 अंक तक चढ़ गया था। कारोबारी सप्ताह के आखिरी दिन नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 81.15 अंक यानी 0.79 प्रतिशत सुधरकर 10,333.25 अंक पर पहुंच गया था। एग्जिट पोल आने के बाद से ही शेयर मार्केट में अच्छी बढ़त देखने को मिल रही थी। दरअसल एग्जिट पोल में गुजरात में बीजेपी को जीत मिल रही थी। टाइम्स नाउ और वीएमआर ने अपने एग्जिट पोल में बीजेपी को 109 और कांग्रेस को 70 सीटें मिलने का अनुमान लगाया था।

गुजरात विधानसभा चुनाव परिणाम 2017 LIVE: BJP ने फिर बनाई बढ़त, देखिए कांग्रेस कहां चल रही आगे

इंडिया टुडे एक्सिस के एग्जिट पोल के अनुसार बीजेपी 99 से 113 सीटों पर और कांग्रेस को 68 से 82 सीटों पर जीत दर्ज कर सकती है। एबीपी न्यूज और सीएसडीएस के एग्जिट पोल्स के मुताबिक बीजेपी 117 और कांग्रेस 64 सीटें जीत दर्ज कर सकती है। इंडिया टीवी वीएमआर एग्जिट पोल सर्वे के अनुसार बीजेपी को 104 से 114 सीटें मिल सकती है तो वहीं कांग्रेस को 65-75 सीटें मिल सकती हैं। रिपब्लिक चैनल की बात करें तो, रिपब्लिक चैनल ने बीजेपी को 109 और कांग्रेस को 71 सीटें मिलने की उम्मीद जताई है।

गुजरात, हिमाचल प्रदेश चुनाव परिणाम 2017 LIVE: BJP-कांग्रेस में कड़ी टक्‍कर, देखें लेटेस्‍ट नतीजे

ADB (एशियाई विकास बैंक) ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर कम रहने का भी पूर्वानुमान लगाया। ADB ने देश की जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर का अनुमान चालू वित्त वर्ष के लिए घटाकर 6.7 फीसदी कर दिया है। ADB ने इस गिरावट के लिए बैंक ने पहली छमाही के कमजोर प्रदर्शन, नोटबंदी और जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) के लागू होने के बाद की चुनौतियों का हवाला दिया है। बहुपक्षीय ऋणदाता ने वित्त वर्ष 2018-19 के लिए देश का जीडीपी अनुमान 7.4 फीसदी से घटाकर 7.3 फीसदी कर दिया है, जिसका मुख्य कारण कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय कीमतों में बढ़ोत्तरी तथा देश में स्थिर निजी निवेश को बताया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App