ताज़ा खबर
 

कोयला ब्लॉक आवंटन पर उच्चतम न्यायालय के फैसले से सेंसेक्स 31 अंक लुढ़का

मुंबई। उच्चतम न्यायालय के कोयला ब्लॉक आवंटन रद्द करने के फैसले पर प्रतिक्रियास्वरूप बंबई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक कारोबार के दौरान आज एक समय 215 अंक गिरने के बाद कोल इंडिया, हिन्दुस्तान यूनीलीवर और सिप्ला जैसी कंपनियों के शेयरों में अच्छा समर्थन मिलने से समाप्ति पर 31 अंक गिरकर बंद हुआ। उच्चतम न्यायालय ने […]

Author September 24, 2014 5:50 PM

मुंबई। उच्चतम न्यायालय के कोयला ब्लॉक आवंटन रद्द करने के फैसले पर प्रतिक्रियास्वरूप बंबई शेयर बाजार का संवेदी सूचकांक कारोबार के दौरान आज एक समय 215 अंक गिरने के बाद कोल इंडिया, हिन्दुस्तान यूनीलीवर और सिप्ला जैसी कंपनियों के शेयरों में अच्छा समर्थन मिलने से समाप्ति पर 31 अंक गिरकर बंद हुआ।

उच्चतम न्यायालय ने वर्ष 1993 के बाद से विभिन्न कंपनियों को आवंटित 218 में से 214 कोयला खानों का आवंटन रद्द कर दिया। कंपनियों का दावा है कि इन कोयला खानों में उनका दो लाख करोड़ रुपए का निवेश हो चुका है। फैसले से इन कंपनियों को झटका लगा है।

फैसले के बाद जिंदल स्टील एण्ड पॉवर का शेयर 9.99 प्रतिशत और उषा मार्टिल का शेयर मूल्य 11.83 प्रतिशत टूट गया। इसके लिए स्टेट बैंक और आईसीआईसीआई बैंक जैसे शेयरों में भी गिरावट रही।

बाजार में वायदा एवं विकल्प कारोबार के मासिक सौदों की कल समाप्ति को देखते हुये कारोबारियों ने सतर्क रूख अपनाया।

बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स आज बढ़त में खुलने के बाद ऊंचे में 26,844.70 अंक तक गया और बाद में उच्चतम न्यायालय का फैसला आने पर बिकवाली दबाव बढ़ने से 26,560.00 अंक तक लुढक गया। कारोबार समाप्ति के समय चुनींदा शेयरों में लिवाली आने से सेंसेक्स काफी कुछ नुकसान की भरपाई कर ली और अंत में पिछले दिन के मुकाबले मात्र 31 अंक यानी 0.12 प्रतिशत घटकर 26,744.69 अंक पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी इसी की तरह घटबढ में 8,000 अंक से नीचे उतरने के बाद 15.15 अंक यानी 0.19 प्रतिशत घटकर 8,002.40 अंक पर बंद हुआ।

बाजार में गिरावट के उलट कोल इंडिया का शेयर 5.02 प्रतिशत, हिन्दुस्तान यूनीलीवर का शेयर मूलय 2.87 प्रतिशत, सिप्ला 2.62 प्रतिशत, आईटीसी 1.58 प्रतिशत और विप्रो 1.56 प्रतिशत बढ़ गया। टाटा पॉवर और एनटीपीसी भी बढ़त में रहे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App