ताज़ा खबर
 

सेंसेक्स 17 महीने बाद 29000 अंक के पार, घाटे में आईटी सेक्टर

टीसीएस का शेयर 5.14 प्रतिशत टूटकर 2321.15 रुपए प्रति शेयर रहा। विप्रो का शेयर 1.77 प्रतिशत टूटकर 473.60 रुपए व इन्फोसिस का शेयर 1.62 प्रतिशत टूटकर 1037.90 रुपए प्रति शेयर रहा।
Author मुंबई | September 8, 2016 18:39 pm
बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (फाइल फोटो)

वाहन व रीयल्टी खंड के शेयरों में लिवाली समर्थन के चलते बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स गुरुवार (8 सितंबर) को 17 महीने में पहली बार 29,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से ऊपर बंद हुआ जबकि टीसीएस की अगुवाई में आईटी शेयरों में गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का तीस शेयर आधारित सेंसेक्स कारोबार के दौरान नीचे 28,854.56 अंक तक चला गया था। बाद में लिवाली के समर्थन से यह 29,077.28 अंक तक चढ़ने के बाद अंतत: 118.92 अंक की मजबूती दिखाता हुआ 29,045.28 अंक पर बंद हुआ। यह सेंसेक्स का 13 अप्रैल 2015 के बाद का उच्चतम स्तर है। निफ्टी 34.55 अंक लाभ में 8952.50 अंक पर बंद हुआ। यह कारोबार के दौरान 8896 और 8960.35 अंक के दायरे में रहा।

देश की प्रमुख आईटी सेवा कंपनी टीसीएस ने अपने कारोबार भविष्य को लेकर चेतावनी जारी की जिससे उसका शेयर 5.14 प्रतिशत टूटकर 2321.15 रुपए प्रति शेयर रहा। विप्रो का शेयर 1.77 प्रतिशत टूटकर 473.60 रुपए व इन्फोसिस का शेयर 1.62 प्रतिशत टूटकर 1037.90 रुपए प्रति शेयर रहा। वहीं मुनाफा कमाने वाले शेयरों में वाहन कंपनियों के शेयर चमक में रहे। वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम ने उद्योग के लिए बेहतर दिनों की उम्मीद जताई है जिससे मारुति सुजुकी का शेयर 2.71 प्रतिशत चढ़कर 5,482.40 अंक की ऊंचाई को छू गया। वहीं बजाज ऑटो का शेयर 3.55 प्रतिशत चढ़कर 3091.95 रुपए पर बंद हुआ। जियोजित बीएनपी परिबा फिनांशल सर्विसेज के अनुसंधान प्रुमख विनोद नायर ने कहा,‘निरंतर नकदी प्रवाह के कारण बाजार में सकारात्मकता आई जबकि आईटी खंड के शेयरों में नरमी रही।’

घरेलू बाजार में बीएसई के सूचकांक आधारित 30 में से 20 शेयर लाभ के साथ बंद हुए। लिवाली समर्थन से सन फार्मा, टाटा स्टील, लुपिन, हीरो मोटोकॉर्प, एचयूएल, सिप्ला, आरआईएल, डॉ. रेड्डीज, आईटीसी व एलएंडटी का शेयर चढ़कर बंद हुआ। वहीं गिरावट के साथ बंद होने वाले शेयरों में गेल, एनटीपीसी व आईसीआईसीआई बैंक शामिल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.