ताज़ा खबर
 

शेयर बाज़ार पर फेडरल रिज़र्व की ब्याज़ दर वृद्धि का असर, सेंसेक्स 84 अंक टूटा

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 28.85 अंक टूटकर 8,153.60 अंक पर बंद हुआ।

Author मुंबई | December 15, 2016 6:36 PM
गुरुवार (15 दिसंबर) को शेयर बाजार का हाल। (पीटीआई ग्राफिक्स)

अमेरिका के केंद्रीय बैंक फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर बढ़ाए जाने के फैसले का असर गुरुवार (15 दिसंबर) को भारत सहित दुनिया भर के बाजारों पर दिखाई दिया। कारोबारियों के बिकवाली दबाव से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 84 अंक टूटकर 26,519 अंक पर बंद हुआ। फेडरल रिजर्व के इस कदम से डालर की तुलना में रुपया भी नीचे आया है। इसका भी बाजार धारणा पर असर पड़ा है। विदेशी कोषों द्वारा हाथ खींच लिए जाने से कारोबार के दौरान काफी उतार चढाव देखने को मिला।

बीएसई के तीस शेयर आधारित सेंसेक्स में गुरुवार (15 दिसंबर) को कारोबार के दौरान नरमी बनी रही और अंत में यह 83.77 अंक की गिरावट दिखाता हुआ 26,519.07 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 26,407.58 और 26,737.86 अंक के दायरे में रहा। बुधवार (14 दिसबंर) सेंसेक्स 95 अंक टूटा था। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 28.85 अंक टूटकर 8,153.60 अंक पर बंद हुआ। यह कारोबार के दौरान 8,121.95 व 8225.90 अंक के दायरे में रहा। अमेरिका के केंद्रीय बैंक ने ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत वृद्धि की है जो इस साल में पहली बार की गई है।

जियोजित बीएनपी परिबा फाइनेंसियल सर्विसेज के अनुसंधान प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि फेडरल रिजर्व द्वारा ब्याज दर बढ़ाए जाने तथा 2017 में और बढ़ोतरी के अनुमान का असर घरेलू बाजार पर रहा। फेडरल रिजर्व की घोषणा के बाद अमेरिकी बांड से आय बढ़ी तथा डॉलर मजबूत हुआ जो कि भारत सहित अन्य उदीयमान बाजारों के लिए नकारात्मक संकेत है। बिकवाली दबाव के कारण सन फार्मा, एनटीपीसी, टाटा मोटर्स, आईटीसी, भारती एयरटेल व सिपला के शेयर में 4.36 प्रतिशत तक की गिरावट आई। वहीं टीसीएस का शेयर 2.34 प्रतिशत व गीतांजलि जेम्स का शेयर 6.70 प्रतिशत चढ़ा। सूचकांक में शामिल 30 में से 18 शेयर गिरावट के साथ बंद हुए। वैश्विक बाजारों में मिला जुला रुख देखने को मिला।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App