ताज़ा खबर
 

सेंसेक्स 62 अंक कमजोर

मुंबई। बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स मुनाफावसूली के कारण आज 62 अंक की गिरावट के साथ बंद हुआ। देश के विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि सितंबर में नौ महीनों के मुकाबले सबसे धीमी दर से बढ़ने की रिपोर्ट के बीच लंबी छुट्टी शुरू होने से पहले निवेशकों ने मुनाफावसूली की। तीस शेयरों वाला बंबई शेयर बाजार […]

Author October 1, 2014 5:36 PM
सेंसेक्स आज के शुरूआती कारोबार में 258 अंक गिरकर 27,572.70 अंक के स्तर पर आ गया

मुंबई। बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स मुनाफावसूली के कारण आज 62 अंक की गिरावट के साथ बंद हुआ। देश के विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि सितंबर में नौ महीनों के मुकाबले सबसे धीमी दर से बढ़ने की रिपोर्ट के बीच लंबी छुट्टी शुरू होने से पहले निवेशकों ने मुनाफावसूली की।
तीस शेयरों वाला बंबई शेयर बाजार का सूचकांक कारोबार के दौरान सीमित दायरे में रहा और अंत में 62.52 अंक या 0.23 प्रतिशत की गिरावट के साथ 26,567.99 अंक पर बंद हुआ।

50 शेयरों वाला नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी 19.25 अंक या 0.24 प्रतिशत की गिरावट के साथ 7,945.55 अंक पर बंद हुआ।
दिल्ली के एक ब्रोकर ने कहा, ‘‘लंबा अवकाश तथा सितंबर में विनिर्माण क्षेत्र में नरमी की खबर के बीच मुनाफावसूली तथा निवेशकों के सतर्क रूख से बाजार धारणा कमजोर हुई।’’

शेयर बाजार अब कारोबार के लिये मंगलवार को खुलेगा।

एचएसबीसी के सर्वे के अनुसार विनिर्माण व्यापार की स्थिति का आईना एचएसबीसी इंडिया परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स :पीएमआई: अगस्त के 52.4 से गिरकर 51.0 पर आ गया। दिसंबर 2013 के बाद यह सबसे धीमी वृद्धि है।

कारोबारियों के अनुसार लंबे अवकाश से पहले निवेशक बड़े निवेश से दूर रहना उचित समझे।

वैश्विक स्तर पर तेल की कीमत दो साल के निम्न स्तर पर होने के साथ तेल एवं गैस कंपनियों के शेयर दबाव में रहे।

रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर जहां 1.96 प्रतिशत कमजोर हुआ, वहीं ओएनजीसी 1.58 प्रतिशत तथा गेल 2.27 प्रतिशत कमजोर हुआ।

डॉलर के मुकाबले रुपए के सात महीने के निम्न स्तर पर आने से इंफोसिस, टीसीएस तथा विप्रो की अगुवाई में आईटी शेयरों में बढ़त दर्ज की गई।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से 20 शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी जबकि 9 में तेजी रही। वहीं टाटा मोटर्स कल के स्तर पर रहा।

देश की सबसे बड़ी दोपहिया वाहन कंपनी हीरो मोटो कार्प का शेयर 1.24 प्रतिशत मजबूत हुआ। इसका कारण सितंबर में कंपनी की बिक्री में 30 प्रतिशत से अधिक की वृद्धि है।

क्षेत्रवार तेल एवं गैस क्षेत्र के सूचकांक सर्वाधिक प्रभावित हुए। इसमें 1.55 प्रतिशत की गिरावट आयी। उसके बाद एफएमसीजी सूचकांक में 1.26 प्रतिशत, उपभोक्ता टिकाऊ में 0.85 प्रतिशत, बैंकिंग सूचकांक 0.44 प्रतिशत कमजोर हुए।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App