ताज़ा खबर
 

सेंसेक्स 248 अंक टूटा, सप्ताह के दौरान दोनों सूचकांकों कुल मिला कर सुधार

तीस शेयरों वाला सूचकांक शुरुआती कारोबार में बढ़त के साथ 29,062.90 अंक पर खुला। लेकिन बाद में गिर कर 28,755.08 अंक पर चला गया।

Author मुंबई | September 9, 2016 6:49 PM
शेयर बाजार (फाइल फोटो)

बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स शुक्रवार (9 सितंबर) को 248 अंक की गिरावट के साथ 17 माह के उच्च स्तर से नीचे आ गया। उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु बम के परीक्षण के बाद वैश्विक स्तर पर बाजारों में कमजोर रुख का असर घरेलू बाजार पर भी पड़ा। साथ ही घरेलू निवेशकों ने वृहत आर्थिक आंकड़े से पहले सतर्क रुख अपनाया। यूरोपीय केंद्र बैंक (ईसीबी) के नए प्रोत्साहन उपायों को आगे बढ़ाए जाने को ले कर अनिश्चितता से भी धारणा कमजोर हुई। बीएसई के मिड-कैप और स्माल-कैप सूचकांकों में क्रमश: 0.99 प्रतिशत तथा 0.47 प्रतिशत की गिरावट आई। साप्ताहिक आधार पर देखें तो सेंसेक्स 265.14 अंक या 0.92 प्रतिशत तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 57.05 अंक या 0.64 प्रतिशत मजबूत हुए।

तीस शेयरों वाला सूचकांक शुरुआती कारोबार में बढ़त के साथ 29,062.90 अंक पर खुला। लेकिन बाद में गिर कर 28,755.08 अंक पर चला गया। अंत में यह 248.03 अंक या 0.85 प्रतिशत की गिरावट के साथ 28,797.25 अंक पर बंद हुआ। पचास शेयरों वाला एनएसई निफ्टी भी 85.80 अंक या 0.96 प्रतिशत की गिरावट के साथ 8,866.70 अंक पर बंद हुआ। आईआईपी (औद्योगिक उत्पादन) और मुद्रास्फीति आंकड़ें आने से पहले निवेशकों ने सतर्क रुख अपनाया जिससे धारणा प्रभावित हुई। जियोजीत बीएनपी परिबा फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य बाजार रणनीतिकार आनंद जेम्स ने कहा, ‘यह सप्ताह घरेलू बाजार के लिए शानदार रहा, हालांकि सोमवार (5 सितंबर) को जारी किए जाने वाले औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (आईआईपी) तथा उपभोक्ता मुद्रास्फीति (सपीआई) के आंकड़ों की प्रतीक्षा में इस सप्ताह के आखिरी दिन आज (9 सितंबर) अंत थोड़ी गिरावट में रहा। ईसीबी के प्रोत्साहन की अनिश्चितता से वैश्विक बाजारों पर असर पड़ा लेकिन एफआईआई प्रवाह तथा प्रमुख शेयरों की लिवाली से समर्थन मिला।’

येस बैंक का शेयर 4.0 प्रतिशत से अधिक टूटकर 1,277.25 रुपए पर आ गया। अत्यधिक उतार-चढ़ाव का हवाला देते हुए बैंक के एक अरब डॉलर जुटाने की योजना टाले जाने के बाद शेयर भाव नीचे आया। वहीं देश की सबसे बड़ी इस्पात कंपनी सेल का शेयर 6.0 प्रतिशत नीचे आया। कंपनी का एकल आधार पर शुद्ध घाटा जून तिमाही में बढ़कर 534.92 करोड़ रुपए होने से शेयर भाव टूटा। वैश्विक स्त पर एशियाई बाजारों में गिरावट का रुख। चीन, सिंगापुर, दक्षिण कोरिया तथा ताइवान 0.55 प्रतिशत से 1.25 प्रतिशत तक नीचे आये। ईसीबी के बांड खरीद कार्यक्रम की समयसीमा नहीं बढ़ाने के फैसले से बाजारों पर असर पड़ा। यूरोप में भी प्रमुख बाजारों में नरमी रही।

घरेलू बाजार में सेंसेक्स के 30 शेयरों में 22 नुकसान में तथा सात लाभ में रहे। जबकि कोल इंडिया स्थिर रहा। नुकसान में रहने वाले प्रमुख शेयरों में एक्सिस बैंक (2.54 प्रतिशत), आईटीसी (2.49 प्रतिशत), एचयूएल (2.24 प्रतिशत), टाटा स्टील (2.08 प्रतिशत), हीरो मोटो कॉर्प (2.0 प्रतिशत) तथा टाटा मोटर्स (1.98 प्रतिशत) शामिल हैं। वहीं दूसरी तरफ ओएनजीसी (3.31 प्रतिशत), गेल (1.54 प्रतिशत), विप्रो (1.49 प्रतिशत), टीसीएस (1.35 प्रतिशत), टीसीएस (1.35 प्रतिशत) तथा रिलांयस (1.11 प्रतिशत) में तेजी रही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App