ताज़ा खबर
 

कोरोना संकट से आईटी सेक्टर में मचेगा कोहराम, आने वाले समय में लाखों लोगों की हो सकती है छंटनी

आईबीएम ने दुनिया भर में अपने 2,000 कर्मचारियों की छंटनी की है। कंपनी का कहना है कि वह अपने कारोबार के स्वरूप में बदलाव कर रही है। माना जा रहा है कि आने वाले समय में कंपनी के एक तिहाई कर्मचारी प्रभावित हो सकते हैं।

it sectorआटी सेक्टर में हो सकती है लाखों कर्मचारियों की छंटनी

कोरोना संकट के चलते दुनिया भर में आईटी सेक्टर में भूचाल की स्थिति है। इसके चलते इस सेक्टर में हजारों लोगों की छंटनी होने की स्थिति है। भारत समेत दुनिया भर के देशों में हजारों कर्मचारियों की कंपनियां छंटनी कर सकती हैं। इंडस्ट्री के जानकारों के मुताबिक नॉन-परफॉर्मेंस, प्रोजेक्ट्स की कमी और वर्कफोर्स को दुरुस्त करने के नाम पर कंपनियां एंप्लॉयीज की छंटनी के मूड में हैं। छोटी कंपनियों के अलावा अब दिग्गज कंपनियां भी छंटनी के मूड में हैं। पहले ही ऑटोमेशन और तकनीक के चलते बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की लगातार दो साल से छंटनी हो रही है। अब कोरोना के संकट ने प्रोजेक्ट्स में कमी पैदा कर दी है, इसके चलते कर्मचारियों की संख्या में और कटौती की जा रही है।

दिग्गज आईटी कंपनी आईबीएम ने दुनिया भर में अपने 2,000 कर्मचारियों की छंटनी की है। कंपनी का कहना है कि वह अपने कारोबार के स्वरूप में बदलाव कर रही है। माना जा रहा है कि आने वाले समय में कंपनी के एक तिहाई कर्मचारी प्रभावित हो सकते हैं। भारत में भी आईबीएम कंपनी सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी कर सकती है। हालांकि आईबीएम ने इस संबंध में अभी कोई टिप्पणी नहीं की है। इसके अलावा Cognizant ने भी हाल ही में भारत में सैकड़ों कर्मचारियों की छंटनी की है। कॉग्निजेंट के कुल 2,90,000 कर्मचारी हैं, जिनमें से 2 लाख कर्मचारी अकेले भारत में ही हैं।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक आईटी सर्विस कंपनियों ने दरअसल अतिरिक्त कर्मचारियों की छंटनी का फैसला लिया है। कंपनियों का मानना है कि ये कर्मचारी नॉन-बिलेबल हैं और प्रोजेक्ट्स की कमी के चलते ऐसे कर्मचारियों का लाभ नहीं लिया जा सकता। आमतौर पर कंपनियां कुछ कर्मचारियों को ही रिजर्व के तौर पर रखती हैं ताकि किसी भी प्रोजेक्ट को तुरंत अमल में लाया जा सके। Cognizant के प्रवक्ता ने कहा कि फिलहाल जो छंटनी हुई है, वे परफॉर्मेंस आधारित हैं।

कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि परफॉर्मेंस मैनेजमेंट एक सामान्य प्रक्रिया है और ऐसा Cognizant समेत तमाम कंपनियों में होता है। जानकारों के मुताबिक कंपनियां जिनकी छंटनी कर रही हैं, उनमें पहले नंबर पर अतिरिक्त कर्मचारियों को रखा जा रहा है। एक एक्सपर्ट ने कहा कि मौजूदा दौर में छंटनी होना स्वाभाविक है क्योंकि कंपनियां कारोबार के मामले में दबाव झेल रही हैं। नई डील्स आना बंद हैं और ऐसे हालात से निपटने के लिए कंपनियों को छंटनी का सहारा लेना पड़ रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भारतीय स्टेट बैंक ने MCLR की दर में फिर की कटौती, जानें- इस फैसले से कितना सस्ता हो सकता है कर्ज
2 नेशनल पेंशन सिस्टम स्कीम बनी बुढ़ापे का सहारा, जानें- कैसे आसानी से निवेश कर आप ले सकते हैं लाइफटाइम बेनिफिट
3 पीएम किसान सम्मान निधि योजना के लाभार्थियों का होगा वेरिफिकेशन, गलत जानकारी देने वालों को मिलेगी यह सजा
ये पढ़ा क्या?
X