ताज़ा खबर
 

गौतम अडानी की मुश्किलें बढ़ींः सरकार ने माना, सेबी कर रही कंपनियों की जांच, उधर और लुढ़के ग्रुप के शेयर

केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी ने लोकसभा में अडानी ग्रुप की कंपनियों की जांच करने की जानकारी दी है। पंकज चौधरी ने कहा है कि हाल में अडानी ग्रुप से जुड़े विदेशी निवेशकों के खाते फ्रीज करने को लेकर कोई आदेश नहीं दिया गया है।

उद्योगपति गौतम अडानी के साथ नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

उद्योगपति गौतम अडानी की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब अडानी ग्रुप की कंपनियों पर नियमों के पालन नहीं करने का आरोप लगा है। सिक्युरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया यानी सेबी और डायरेक्टोरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलीजेंस (डीआरआई) इन कंपनियों की जांच कर रहे हैं। वित्त राज्यमंत्री पंकज चौधरी ने सोमवार को लोकसभा में यह जानकारी दी।

हालांकि, राज्यमंत्री ने यह नहीं बताया कि सेबी और रेवेन्यू इंटेलीजेंस ने अडानी ग्रुप की कंपनियों के खिलाफ कब जांच शुरू की है। साथ ही ग्रुप की किन कंपनियों के खिलाफ जांच हो रही है, इसकी जानकारी भी नहीं दी गई है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि अडानी ग्रुप की कंपनियों से जुड़े मॉरिसस के 6 फंड में से 3 फंड के खाते 2016 में फ्रीज किए गए थे। यह खाते ज्यादा ग्लोबल डिपॉजिटरी रिसीप्ट जारी करने पर सीज किए गए थे। ग्रुप की अन्य कंपनियों से जुड़े निवेशकों के खाते फ्रीज करने को लेकर कोई आदेश जारी दिया गया था। सेबी की जांच की बात सामने आने के बाद सोमवार को अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में 5% तक की गिरावट दर्ज की गई।

इन आरोपों की हो रही जांच: केंद्रीय मंत्री ने बताया कि सेबी अडानी ग्रुप की कुछ कंपनियों की सेबी के रेगुलेशन के अनुपालन को लेकर जांच कर रही है। वहीं, रेवेन्यू इंटेलीजेंस अडानी ग्रुप से जुड़ी कुछ एंटिटी की जांच कर रही है। हालांकि, केंद्रीय मंत्री ने इस संबंध में ज्यादा जानकारी नहीं दी है। इसी साल जून में इकोनॉमिक टाइम्स की एक रिपोर्ट में कहा गया था कि अडानी ग्रुप से जुड़े मॉरिसस के तीन विदेशी निवेशकों के खाते फ्रीज कर दिए गए हैं। तब कंपनी के शेयरों में 12.9% से लेकर 44.9% तक की गिरावट दर्ज की गई थी।

एक महीने में 37 अरब डॉलर से ज्यादा गिरी वैल्यू: इस खबर के बाद गिरावट से अडानी ग्रुप के शेयरों की वैल्यू में बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। बीते एक महीने में अडानी ग्रुप के शेयरों की वैल्यू 37.6 अरब डॉलर घट गई है। हालांकि, अडानी ग्रुप ने विदेशी निवेशकों के खाते सीज होने की खबरों से इनकार किया था। उधर, अडानी ग्रुप के प्रवक्ता ने कहा है कि समूह सेबी के सभी रेगुलेशंस का पालन करता है और हाल में मार्केट रेगुलेटर की ओर से इस संबंध में कोई जानकारी नहीं मिली है। रेवेन्यू इंटेलीजेंस की जांच के संबंध में प्रवक्ता ने कहा कि पांच साल पहले अडानी पावर को जांच एजेंसी की तरफ से कारण बताओ नोटिस मिला था। इस मामले की जांच में कुछ भी गलत नहीं मिला था। फिलहाल यह मामले अपीलैट ट्रिब्यूनल में लंबित है।

गौतम अडानी की नेटवर्थ 11.6 अरब डॉलर घटी: अडानी ग्रुप की कंपनियों के शेयरों में गिरावट का असर गौतम अडानी की नेटवर्थ पर भी पड़ रही है। मई में गौतम अडानी की नेटवर्थ 66.5 अरब डॉलर थी। अब अडानी की नेटवर्थ 11.6 अरब डॉलर घटकर 54.9 अरब डॉलर रह गई है। दुनिया के 100 अरबपतियों की लिस्ट में गौतम अडानी खिसककर 25वें स्थान पर पहुंच गए हैं। नेटवर्थ के मामले में गौतम अडानी अपने प्रमुख प्रतिद्वंदी कारोबार मुकेश अंबानी से काफी पिछड़ गए हैं। अब मुकेश अंबानी की नेटवर्थ बढ़कर 79.8 अरब डॉलर हो गई है। जबकि गौतम अडानी की नेटवर्थ घटकर 54.9 अरब डॉलर रह गई है।

Next Stories
1 महंगे पेट्रोल-डीजल ने भरी सरकार की जेब, 1 साल में एक्साइज ड्यूटी से रिकॉर्ड 3.35 लाख करोड़ रुपए कमाए
2 अरबपतियों की लिस्ट में खिसककर 25वें पायदान पर पहुंचे गौतम अडानी, मुकेश अंबानी से 1.8 लाख करोड़ रुपए कम हुई नेटवर्थ
3 मुकेश अंबानी ने 3 साल में ताबड़तोड़ 20 से ज्यादा कंपनियां खरीदी, 30 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च किए
ये पढ़ा क्या ?
X