SBI में जमा पैसे पर मिलता है एक्स्ट्रा ब्याज, 31 मार्च तक उठाएं स्कीम का फायदा

एसबीआई की इस स्कीम का नाम SBI We Care है। यह स्पेशल फिक्स्ड डिपॉडिट स्कीम मार्च 2021 तक के लिए है। SBI ने मई, 2020 में सीनियर सिटीजन के लिए स्कीम लॉन्च किया था।

sbi news, sbi, fd
इस स्कीम का नाम SBI We Care है। (Photo-Indian express )

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) में पैसे जमा करने यानी पर एक्स्ट्रा ब्याज भी मिलता है। ये ब्याज एक खास वर्ग को मिलता है। आइए जानते हैं एसबीआई की स्कीम के बारे में।

एसबीआई की स्कीमः एसबीआई की इस स्कीम का नाम SBI We Care है। यह स्पेशल फिक्स्ड डिपॉडिट स्कीम मार्च 2021 तक के लिए है। SBI ने मई, 2020 में सीनियर सिटीजन के लिए स्कीम लॉन्च किया था। इसके तहत सीनियर सिटीजन को 5 साल या उससे ज्यादा की अवधि के रिटेल डिपॉजिट के मामले में, उनके लिए लागू ब्याज दर के ऊपर 0.30 फीसदी का अतिरिक्त ब्याज दिया जा रहा है।

आपको बता दें कि SBI सीनियर सिटीजन को एफडी पर, अन्य लोगों के लिए तय रेगुलर ब्याज दर के ऊपर 0.50 फीसदी अतिरिक्त ब्याज की पेशकश करता है। यानी सीनियर सिटीजन इस 0.50 फीसदी और अतिरिक्त 0.30 फीसदी ब्याज दर को मिलाकर एक्स्ट्रा ब्याज हासिल कर सकते हैं।

Home Loan कारोबार 5 लाख करोड़ रुपये के पार: SBI ने बुधवार को कहा कि उसका Home Loan कारोबार 5 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गया है। बैंक की रीयल एस्टेट और आवास कारोबार इकाई में पिछले 10 साल में पांच गुना वृद्धि हुई है। इकाई की प्रबंधन अधीन परिसंपत्ति 2011 में 89,000 करोड़ रुपये थी जो 2021 में बढ़कर 5 लाख करोड़ रुपये पहुंच गयी।

बैंक ने Home Loan कारोबार में 2004 में कदम रखा था। उस समय कुल पोर्टफोलियो 17,000 करोड़ रुपये था। अलग से रीयल एस्टेट और आवास कारोबार एक लाख करोड़ रुपये के पोर्टफोलियो के साथ 2012 में अस्तित्व में आया।

लोन बांटने के मामले में HDFC ने पछाड़ा: पिछले साल आत्मनिर्भर अभियान के तहत सरकार ने 3 लाख करोड़ की इमर्जेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम (ECLGS) की घोषणा की थी। इसके तहत बैंक MSME को लोन उपलब्ध करवाते हैं।

इस लोन को बांटने में एसबीआई को HDFC ने पीछे छोड़ दिया है। 25 जनवरी 2021 तक एचडीएफसी बैंक ने 23504 करोड़ का लोन बांटा है, जबकि SBI ने केवल 18700 करोड़ का लोन बांटा है।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।