ताज़ा खबर
 

एटीएम से सिर्फ 20 हजार तक की रकम निकाल सकेंगे एसबीआई ग्राहक, जानिए क्‍यों बदला नियम

SBI ATM Cash Withdrawal Limit: एटीएम पर धोखाधड़ी, बैंकों द्वारा मिलने वाली शिकायतों की संख्या में बढ़ोतरी और डिजिटल को बढ़ावा देने के लिए यह निर्णय लिया गया है।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

भारत का सबसे बड़ा बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) एटीएम से पैसा निकालने की लिमिट को कम करने जा रहा है। बैंक लिमिट को घटाकर आधा करने जा है। अभी एक कार्ड से एक दिन में 40,000 रुपए ही निकाल सकते हैं। 31 अक्टूबर से यह लिमिट घटाकर 20,000 रुपए कर दिया जाएगा। बैंक की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि एटीएम पर धोखाधड़ी, बैंकों द्वारा मिलने वाली शिकायतों की संख्या में बढ़ोतरी और डिजिटल को बढ़ावा देने के लिए यह निर्णय लिया गया है। अब जिन लोगों के पास क्लासिक और मेस्ट्रो प्लेटफोर्म वाले डेबिट कार्ड हैं उनकी लिमिट को घटाने का फैसला लिया है। एटीएम पर धोखाधड़ी की होने वाली घटनाओं में पाया गया है कि किसी एटीएम पर पिन चुराने के लिए धोखाधड़ी करने वाले लोग कैमरे छुपाकर लगा देते हैं, कहीं कार्ड का डेटा चुराने के लिए कार्ड लगाने की जगह एक और इलेक्ट्रोनिक डिवाइस लगा देते हैं।

इस तरह होने वाली धोखाधड़ी में एक बड़ा हिस्सा क्लासिक कार्ड का है। नकद निकासी पर प्रतिबंध त्यौहार के मौसम से ठीक पहले आ रहा है। आपको बता दें कि कुछ मर्चेंट आउटलेट्स पर कुछ मर्चेंट मोबाइल स्वाइप मशीन का इस्तेमाल कर रहे हैं। आज भी कुछ लोग ऐसे डेबिट कार्ड्स का इस्तेमाल कर रहे हैं जिनमें मैगनेटिक स्ट्रिप है। इस तरह के कार्ड के साथ धोखाधड़ी की ज्यादा संभावना होती है। कुछ बड़े बैंकों की क्रेडिट कार्ड ग्रोथ को छोटे शहर बढ़ावा दे रहे हैं और टॉप 10 शहरों के बाहर के कार्डहोल्डर्स इस तरीके से होने वाले खर्च में 40-45 प्रतिशत योगदान कर रहे हैं।

स्टेट बैंक की तरफ से यह भी कहा गया है कि ज्यादातर लोग 20 हजार रुपए तक का ही कैश निकालते हैं। हम छोटी निकासी में होने वाले फ्रॉड में कमी लाने के लिए ऐसा कर रहे हैं। इससे ज्यादा कैश की जरूरत कम लोगों को पड़ती है। अगर इससे ज्यादा की जरूरत पड़ती है तो बैंक उनके लिए ज्यादा लिमिट वाले कार्ड जारी करती है। बैंक यह कार्ड उन लोगों के लिए जारी करती है जिनके अकाउंट में ज्यादा पैसा रहता है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App