ताज़ा खबर
 

सुब्रत राय को जेल से निकालने के लिए फार्मूला 1 टीम, चार विमान और होटल बेचेगा सहारा समूह, कोर्ट से मांगी इजाजत

सहारा समूह पर निवेशकों के 24 हजार करोड़ रुपए नहीं लौटाने के आरोप हैं। सेबी मामला लेकर कोर्ट पहुंचा। 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने पहली बार सहारा समूह को निवेशकों के पैसे लौटाने को कहा। लेकिन सहारा समूह टालमटोल करता रहा।

Author नई दिल्ली | February 2, 2016 18:40 pm
24 हजार करोड़ रुपए वापस करने से जुड़े मामले में सुब्रत रॉय 4 मार्च, 2014 से जेल में हैं

सुब्रत राय के सहारा समूह ने अपनी फार्मूला 1 टीम, चार विमान और होटल बेच कर 3000 करोड़ रुपए जुटाने का प्‍लान बनाया है। इसके लिए मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट से अनुमति मांगी गई। निवेशकों के 24 हजार करोड़ रुपए वापस करने से जुड़े मामले में सुब्रत रॉय 4 मार्च, 2014 से जेल में हैं। कोर्ट का कहना है कि पैसे मिलने के बाद ही उनकी जमानत हो सकती है। इस दौरान वह तीन किताबें लिख चुके हैं। इनमें से एक किताब रिलीज भी हो गई है।

सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह को एक अंतिम मौका देते हुए पिछले साल मार्च में पैसे जुटाने के लिए तीन माह का समय दिया था। कोर्ट ने कहा था कि अगर सहारा पैसे का बंदोबस्त नहीं कर सकेगा तो कोर्ट उसकी परिसंपत्तियों की नीलामी के लिए रिसीवर नियुक्त करेगी।

सहारा समूह पर निवेशकों के 24 हजार करोड़ रुपए नहीं लौटाने के आरोप हैं। सेबी मामला लेकर कोर्ट पहुंचा। 2012 में सुप्रीम कोर्ट ने पहली बार सहारा समूह को निवेशकों के पैसे लौटाने को कहा। लेकिन सहारा समूह टालमटोल करता रहा। सुप्रीम कोर्ट ने सुब्रत रॉय को अदालत में पेश होने को कहा तो भी वे आनाकानी करते रहे। कभी अपनी मां की तबीयत खराब होने तो कभी कुछ और कारण बताकर कोर्ट से कई सुनवाइयों पर गैरहाजिर रहे। उसके बाद सुप्रीम कोर्ट सख्‍त हुआ। पुलिस को निर्देश दिया कि वह सुब्रत रॉय को कोर्ट में पेश करें। इसके बाद लखनऊ पुलिस ने सुब्रत रॉय को सहारा शहर, लखनऊ से लाकर सुप्रीम कोर्ट में हाजिर किया। तब से वह जेल में ही हैं।

सहारा समूह का दावा कि उसने ज्यादातर निवेशकों के पैसे लौटा दिए हैं और अब 5 हजार करोड़ रुपए से भी कम की देनदारी बची है। सहारा का कहना है कि उसने यह रकम भी सेबी के पास जमा करवा दी है। लेकिन सहारा समूह ने निवेशकों को पैसे किस तरह लौटाए, यह आज तक साफ नहीं हे सका है। उसने सेबी को उन निवेशकों के पते दिए थे, जिन्हें पैसा लौटाने का दावा किया गया था। जब सेबी ने उन निवेशकों से इस बारे में पूछने की कोशिश की तो कई पते फर्जी निकले थे। इससे सहारा के दावों पर सवाल खड़े हुए।

सहारा समूह की दो कंपनियों सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉरपोरेशन (SIREC) और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन (SHIC) का सेबी से विवाद चल रहा है। 6 फरवरी, 2014 को सुप्रीम कोर्ट ने सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय और उनकी दोनों कंपनियों को अदालत की अवमानना का दोषी मानते हुए सेबी को सहारा के खाते सीज करने और विवाद में फंसी दोनों कंपनियों की कुल संपत्तियों को जब्त करने को कहा था। इस आदेश के बाद 4 मार्च, 2014 को सुब्रत रॉय को जेल भेज दिया गया।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App