ताज़ा खबर
 

RBI ने लटकाया ICICI, एचडीएफसी और एक्सिस बैंक के सीईओ का बोनस, चंदा कोचर के 2.2 करोड़ भी फंसे

तीनों प्रमुखों के बोनस की रकम कुल मिलाकर छह करोड़ रुपए के आसपास बैठती है। यह रकम इन बैंकों के सीईओ को वित्त वर्ष 2016-17 के प्रदर्शन के लिए दी जानी है। आरबीआई ने नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) का हवाला देते हुए तीनों बैंकों के सीईओ के बोनस वाली रकम पर सवालिया निशान लगाए हैं।

आईसीआईसीआई बैंक की चंदा कोचर, एचडीएफसी के आदित्य पुरी और एक्सिस बैंक की शिखा शर्मा का बोनस आरबीआई ने फिलहाल रोक रखा है। (फोटोः फेसबुक)

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने देश के तीन शीर्ष निजी बैंकों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) के बोनस को लटका रखा है। इनमें आईसीआईसीआई बैंक की चंदा कोचर, एचडीएफसी बैंक के आदित्य पुरी और एक्सिस बैंक की शिखा शर्मा के नाम हैं। तीनों प्रमुखों के बोनस की रकम कुल मिलाकर छह करोड़ रुपए के आसपास बैठती है। यह रकम इन बैंकों के सीईओ को वित्त वर्ष 2016-17 के प्रदर्शन के लिए दी जानी है। आरबीआई ने नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) का हवाला देते हुए तीनों बैंकों के सीईओ के बोनस वाली रकम पर सवालिया निशान लगाए हैं। जानकारों का कहना है कि आरबीआई ने अभी तक प्रस्तावित बोनस के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं। हालांकि, आरबीआई और अन्य बैंक इस मसले पर किसी प्रकार की बात करने के लिए राजी नहीं हैं।

आईसीआईसीआई बोर्ड ने अपनी सीईओ चंदा कोचर के लिए 2.2 करोड़ रुपए के बोनस की रकम को मंजूर किया था, जबकि एक्सिस बैंक की शिखा शर्मा के लिए यह राशि 1.35 करोड़ रुपए रखी गई। वहीं, एचडीएफसी बैंक के आदित्य पुरी के लिए 2.9 करोड़ रुपए बोनस के तौर पर रखा गया है।

बैंकिंग मामलों के विशेषज्ञ आशुतोष मिश्रा का कहना है कि 31 मार्च 2018 तक आरबीआई को बोनस की रकम पर मंजूरी दे देनी चाहिए थी। लेकिन इसमें देरी हो रही है। ऐसा मामला पहली बार देखने को मिल रहा है। साथ ही एक साल में बैंकिंग जगत में ढेर सारे घोटाले देखने को मिले। आरबीआई की ओर से इस प्रकार की कड़ाई इसलिए हो रही है, क्योंकि वह बैड लोन की रकम का खुलासा न करने को लेकर बैंकों से नाराज है।

31 मार्च 2017 तो खत्म हुई वित्त वर्ष की ऑडिट रिपोर्ट कहती है कि करीब 5600 करोड़ रुपए के बैड लोन का खुलासा एक्सिस बैंक ने नहीं किया। आईसीआईसीआई बैंक के बैड लोन प्रोविजन बढ़े हैं, जबकि एचडीएफसी बैंक के बैड लोन की रकम में फर्क देखने को मिला है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App