ताज़ा खबर
 

तीन महीने तक नहीं देनी होंगी लोन की किस्तें, रिजर्व बैंक ने कर्जधारकों को दी बड़ी राहत, जानें- होम लोन, कार लोन समेत किस पर मिलेगा फायदा

No EMI payments for 3 months: अप्रैल, मई और जून तक होम लोन, कार लोन, एजुकेशन लोन और कॉरपोरेट लोन समेत तमाम तरह के टर्म लोन की किस्तें इन तीन महीनों के दौरान कर्जधारकों को नहीं चुकानी होंगी।

loanतीन महीने तक नहीं कटेगी ईएमआई, होम लोन समेत तमाम कर्जों पर मिली राहत

No EMI payments for 3 months: कर्मचारियों को बड़ी राहत देते हुए भारतीय रिजर्व बैंक ने टर्म लोन की ईएमआई यानी मासिक किस्तों को चुकाने में तीन महीने की छूट दी है। इसका अर्थ यह हुआ कि मार्च, अप्रैल और मई में होम लोन, कार लोन, एजुकेशन लोन और कॉरपोरेट लोन समेत तमाम तरह के टर्म लोन की किस्तें कर्जधारकों को नहीं चुकानी होंगी। जून से ही आपको लोन की किस्तें चुकानी होंगी।

आरबीआई ने बैंकों से कहा है कि वे कर्जधारकों से हर महीने ली जाने वाली ईएमआई को तीन महीने के लिए टाल सकते हैं। हालांकि आरबीआई का यह सुझाव है, लेकिन सभी बैंकों की ओर से इस पर अमल की उम्मीद है। कोरोना वायरस के लॉकडाउन के चलते नौकरीपेशा लोगों के रोजगार पर भी बड़ा असर पड़ने की आशंका है। यही नहीं सैलरी में कटौती जैसी चीजों का भी सामना करना पड़ सकता है।

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर ने शक्तिकांत दास ने रेपो रेट में भी 75 बेसिस पॉइट्स की बड़ी कटौती का ऐलान किया। आरबीआई के इस ऐलान से नौकरीपेशा लोगों को बड़ी राहत मिलेगी और कमजोर आर्थिक स्थिति के दौरान कर्ज में जाने वाली रकम को वह अन्य जरूरतों पर खर्च कर सकेंगे। हालांकि यहां यह ध्यान रखना जरूरी है कि लोन की किस्तें सिर्फ स्थगित की गई हैं, इससे लोन की राशि या किस्तों की अदायगी में कोई अंतर नहीं होगा बाकी सभी शर्तें सामान्य रहेंगी। मान लीजिए कि किसी कर्जधारक का लोन इस महीने के दिसंबर में समाप्त होना था तो फिर तीन महीने की किस्तें स्थगित होने के चलते अब वह लोन मार्च, 2021 में समाप्त होगा।

कर्जधारक की क्रेडिट हिस्ट्री पर नहीं पड़ेगा फर्क: यहां यह ध्यान रखें कि ईएमआई माफ नहीं हुई है, बल्कि तीन महीने के लिए टाली गई है। इसके अलावा इन तीन किस्तों के टलने से कर्जधारक के क्रेडिट स्कोर या हिस्ट्री पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा यानी इसे कर्जधारक की ओर से डिफॉल्ट नहीं माना जाएगा। इसके साथ ही आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि देश की बैंकिंग व्यवस्था मजबूत है। उन्होंने लोगों से बैंकिंग सेक्टर पर भरोसा बनाए रखने की भी अपील की।

ग्रोथ बढ़ाने का भी आरबीआई ने किया उपाय: एक तरफ लोन की किस्तों में तीन महीने के लिए राहत दी गई है तो दूसरी तरफ रेपो रेट में कटौती से कर्जधारकों के लिए सस्ते लोन की राह भी खुली है। आरबीआई ने अपने इन दो कदमों के जरिए एक तरफ मौजूदा कर्जधारकों को राहत देने की कोशिश की है तो ब्याज दर घटाकर बाजार में उत्साह बनाए रखने का प्रयास भी किया है।

आरबीआई की समिति ने लिया फैसला: यह फैसला रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने लिया है। समिति की बैठक 31 मार्च को होनी थी, लेकिन कोरोना वायरस की वजह से बढ़ते संकट के बीच इसे समय से पहले अंजाम दिया गया। अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस से होने वाले नुकसान को कम करने के लिए रिजर्व बैंक ने कई तरह के कदम उठाए हैं।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Next Stories
1 खेतों में ही सड़ रही टमाटर और अंगूर की फसल, लॉकडाउन से किसानों में हाहाकार, नोटबंदी से बुरे हो सकते हैं हालात
2 कैसे खुलेगा प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत खाता, जानिए- पूरी प्रक्रिया, 20 करोड़ महिलाओं के अकाउंट में तीन महीने तक आएंगे 500 रुपये
3 कोरोना के संकट काल में 1 लाख भिखारियों के भी खाने का इंतजाम कर रही सरकार, दिल्ली, मुंबई समेत 10 शहरों में चलेगी स्कीम
ये पढ़ा क्या?
X