ताज़ा खबर
 

DHFL में करीब 1500 करोड़ के फ्रॉड का नया मामला, मुकेश अंबानी के समधी ने कंपनी पर लगाया है दांव

DHFL के प्रशासक ने 1,424 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी के सिलसिले में राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी), मुंबई में अतिरिक्त हलफनामा दिया है।

DHFL का अधिग्रहण अजय पीरामल के पीरामल समूह ने किया है। (Photo-indian express )

वैसे तो दीवान हाउसिंग फाइनेंस (DHFL) का अधिग्रहण अजय पीरामल (Ajay Piramal) के पीरामल समूह ने किया है। लेकिन DHFL से जुड़े फ्रॉड के मामले अब भी कम नहीं हो रहे हैं।

दरअसल, दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (DHFL) उसके प्रशासक ने 1,424 करोड़ रुपये से अधिक की धोखाधड़ी के सिलसिले में राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी), मुंबई में अतिरिक्त हलफनामा दिया है। DHFL के प्रशासक ने कंपनी के कामकाज की जांच के लिए ग्रांट थॉर्नटन को नियुक्त किया है।

शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा गया है कि प्रशासक को लेनदेन आडिटर से शुरुआती रिपोर्ट मिल गई है जिससे पता चलता है कि कुछ लेनदेन का मूल्य कम कर दिखाया गया। ये लेनदेन धोखाधड़ी वाले प्रतीत होते हैं।

बीते महीने भी आया था मामला: बीते महीने DHFL की ओर से बताया गया था कि कंपनी में 6,182 करोड़ रुपये की फर्जी लेनदेन हुई है। DHFL के मुताबिक इस धोखाधड़ी भरे लेनदेन के मौद्रिक प्रभाव को लगभग 6,182.11 करोड़ रुपये आंका गया है, जिसमें 210.85 करोड़ रुपये ब्याज के रूप में हुये नुकसान के भी शामिल हैं।

पीरामल समूह ने किया है अधिग्रहण: आपको बता दें कि पीरामल समूह ने डीएचएफएल का अधिग्रहण किया है। पीरामल समूह के मुखिया अजय पीरामल (Ajay Piramal) हैं। अजय पीरामल, मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के समधी भी हैं। अजय पीरामल (Ajay Piramal) के बेटे आनंद की शादी ईशा अंबानी (Isha ambani) से हुई है। ईशा, मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) की इकलौती बेटी हैं।

Next Stories
1 Cairn energy Case: ब्रिटिश कंपनी से भिड़ंत को तैयार भारत सरकार,1.4 अरब डॉलर रकम लौटाने का है दबाव
2 SBI के टक्कर में ICICI बैंक का बड़ा ऐलान, घर लेने का सपना हुआ आसान
3 रॉकेट बना IRCTC में लगा निवेशकों का पैसा, सिर्फ 5 दिन के भीतर हो गया इतना मुनाफा
ये  पढ़ा क्या?
X