ताज़ा खबर
 

रिलायंस जियो को इस साल हो सकता है 15 हजार करोड़ रुपये का नुकसान: रिसर्च

ब्रोकरेज बर्नस्टीन की रिसर्च रिपोर्ट का दवा मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो को इस साल के अंत में 2.1 अरब डॉलर (15 हजार करोड़ रुपये) का नुकसान हो सकता है।

दुनिया के अमीरों में पिछले साल अंबानी 19 वें स्थान पर थे।

ब्रोकरेज बर्नस्टीन ने मंगलवार को एक बड़ा खुलासा किया है। बर्नस्टीन के मुताबिक इस वित्त वर्ष के अंत में मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो को 2.1 अरब डॉलर (15 हजार करोड़ रुपये) का नुकसान हो सकता है। इसमें सब्सिडी वाले मोबाइल फोनों की लागत शामिल है। यह नुकसान भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया की तुलना में बड़ा होगा। यह बात इन्वेस्टमेंट रिसर्च फर्म सेनफोर्ड बर्नस्टेन के विश्‍लेषक क्रिस लेन और सैमुअल चेन के हवाले से ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में कही गई है। हालांकि, इसके बावजूद कंपनी अगले 12 महीनों में राजस्व और ग्राहकों की संख्या के मामले में सबको पीछे छोड़ देगी।

लेन और चेन की रिपोर्ट के अनुसार फोन सब्सिडी का वहन एक अलग यूनिट रिलायंस रिटेल लिमिटेड के थ्रू होता है। जिसे जियो के बहीखातों में नहीं दिखाया जाता है। जियो अपने अकाउंटिंग में ‘गैर मानक’ मूल्यह्रास मैट्रिक्स का इस्तेमाल करता है। वहीं दूसरी ओर मुकेश अंबानी की जियो लगातार हर तिमाही में मुनाफे की घोषणा कर रही है। रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि कंपनी को निवेश पर सकारात्मक रिटर्न के लिए हैंडसेट सब्सिडी में कमी करनी होगी और ग्राहकों से प्राप्त राजस्व में वृद्धि करनी होगी।

ब्लूमबर्ग द्वारा संकलित विशेषज्ञों के अनुमान के मुताबिक, भारत की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया को मार्च में खत्म हो रहे वित्त वर्ष में 32 अरब रुपये का घाटा हो सकता है। दूसरे नंबर पर मौजूद कंपनी भारती एयरटेल को 7.5 अरब रुपये का घाटा होने का अनुमान है। वैसे यह घाटा जियो के मुकाबले काफी कम है। आपको बता दें कि जब से रिलायंस जियो की मार्केट में एंट्री हुई है तब से एयरटेल और वोडाफोन आइडिया को काफी नुकसान हुआ है। ऐसे में दिचस्प होगा कि आने वाले दिनों में तीनों कंपनियों का क्या रुख रहता है।

Next Stories
1 लैपटॉप यूज करते हैं तो सावधान! चार्जर के जरिए आपको चूना लगा सकते हैं हैकर्स
2 Aadhar Card Update: आधार कार्ड में पता कराना है अपडेट? बहुत आसान है ऑनलाइन तरीका
3 WhatsApp डाउनलोड्स पर कंट्रोल कर बचा सकते हैं फोन की मेमोरी, ये है तरीका
ये पढ़ा क्या?
X