ताज़ा खबर
 

रिलायंस इंडस्ट्रीज, HDFC, एयरटेल, वोडाफोन समेत इन 10 कंपनियों पर है सबसे ज्यादा कर्ज, जानें- किस पर है कितना

Indian Companies in debt: कई मुनाफे वाली कंपनियां भी हैं, जो बिजनेस में प्रॉफिट के साथ ही कर्ज में भी आगे हैं। रिलायंस इंडस्ट्रीज से लेकर वोडाफोन आइडिया जैसी दिग्गज कंपनियां तक इस लिस्ट में हैं।

प्रतीकात्मक तस्वीर।

यस बैंक में संकट के लिए उन कंपनियों को जिम्मेदार माना जा रहा है, जो कर्ज चुकाने में डिफॉल्टर साबित हुई हैं। अनिल अंबानी ग्रुप, जेट एयरवेज, कॉफी कैफे डे से लेकर जेट एयरवेज तक ऐसी तमाम कंपनियां हैं, जिन पर यस बैंक के हजारों करो़ड़ रुपये बकाया हैं। हालांकि ऐसी कई मुनाफे वाली कंपनियां भी हैं, जो बिजनेस में प्रॉफिट के साथ ही कर्ज में भी आगे हैं। आइए जानते हैं, कर्ज के मामले में कौन हैं देश की टॉप 10 कंपनियां…

पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन: सरकारी क्षेत्र की इस कंपनी पर फाइनेंशियल ईयर 2019 में 5,25,359 करोड़ रुपये का भारीभरकम कर्ज है। हालांकि डिपार्टमेंट ऑफ पब्लिक सेक्टर इंटरप्राइजेज के एक सर्वे के मुताबिक मुनाफा कमाने के मामले में यह 8वें नंबर की सरकारी कंपनी है।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड: टेलीकॉम सेक्टर, तेल समेत कई अहम क्षेत्रों में दखल रखने वाले देश के सबसे अमीर कॉरपोरेट समूह रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड पर 2.87 लाख करोड़ रुपये का कर्ज है। मुकेश अंबानी ने समूह की 42वीं जनरल मीटिंग में कहा था कि वह ग्रुप को पूरी तरह से कर्ज मुक्त बनाने की योजना पर काम कर रहे हैं। हालांकि अब तक रिलायंस समूह इस दिशा में आगे बढ़ता नहीं दिखा है।

HDFC है तीसरे नंबर पर: बैंकिंग, इंश्योरेंस, रियल्टी समेत कई सेक्टर्स में दखल रखने वाली कंपनी एचडीएफसी पर 2,79,683 करोड़ रुपये का कर्ज है। कंपनी देश में कर्ज के मामले में तीसरे नंबर पर है। 2015 में कंपनी पर 2.17 लाख करोड़ रुपये का कर्ज था, जिसमें अब तक 28 फीसदी का इजाफा हुआ है।

सरकारी कंपनी REC चौथे पर: 2 लाख 44 हजार करोड़ रुपये के कर्ज के साथ सरकारी विद्युत कंपनी रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कॉरपोरेशन यानी REC चौथे नंबर पर है। इस कंपनी में 52 फीसदी हिस्सेदारी पीएफसी यानी पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन की ही है, जो कर्ज के मामले में पहले नंबर पर है। बीते 4 सालों में कंपनी के कर्ज में 61 फीसदी से ज्यादा का इजाफा हुआ है।

LIC हाउसिंग फाइनेंस: लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन की सहायक एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस पर 1.68 लाख रुपये का कर्ज है। यह कंपनी कर्ज के मामले में देश में 5वें नंबर पर है। देश की सबसे बड़ी बीमा कंपनी एलआईसी की इसमें 40 फीसदी के करीब हिस्सेदारी है। बीते 4 सालों में इस कंपनी पर कर्ज का बोझ 75 फीसदी बढ़ गया है।

NTPC पर भी भारी कर्ज: देश की दिग्गज विद्युत उत्पादन कंपनी एनटीपीसी पर 1 लाख 61 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है। फाइनेंशियल ईयर 2019 में कंपनी ने 11,961 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ कमाया था। 1975 में स्थापित हुई यह कंपनी देश में विद्युत उत्पादन के मामले में शीर्ष कंपनियों में से एक है।

पावर ग्रिड कॉरपोरेशन: सरकारी क्षेत्र की ही एक और महारत्न कंपनी पावर ग्रिड कॉरपोरेशन 1.46 लाख करोड़ रुपये के कर्ज के साथ 7वें नंबर पर है। 1989 में स्थापित हुई इस कंपनी में सरकार की 54 फीसदी के करीब हिस्सेदारी है। हालांकि यह कंपनी भी मुनाफे वाली है और 2019 में 12,596 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हासिल किया था।

वोडाफोन पर कर्ज भी और घाटा भी: हाल के दिनों में सबसे ज्यादा चर्चा में रही टेलीकॉम कंपनी वोडाफोन आइडिया पर 1.26 लाख करोड़ रुपये का कर्ज है। यह फिलहाल कर्ज के मामले में 8वें नंबर पर है। हाल ही में सरकार के बकाये AGR को चुकाने के लिए चर्चा में रही वोडाफोन ने हाल ही में भारत से कारोबार समेटने की भी बात कही थी। 2019 में इस कंपनी को 14,800 करोड़ का नेट लॉस हुआ था। हालांकि माना जा रहा है कि सरकार की ओर से बेलआउट पैकेज जारी किए जाने के बाद कंपनी की सेहत में कुछ सुधार आ सकता है।

लार्सन एंड ट्रुबो भी कर्ज में: इंजीनियरिंग, कंस्ट्रक्शन से लेकर आईटी सेक्टर तक में काम करने वाली लार्सन एंड ट्रुबो पर 1 लाख 25 हजार करोड़ रुपये का कर्ज है। 1938 में बनी इस कंपनी को 2019 में 10,237 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट हुआ था।

कर्ज में 10वें नंबर पर एयरटेल: रिलायंस जियो के आने के बाद से ही संकट में चल रही भारती एयरटेल पर 1,25,428 करोड़ रुपये का कर्ज है। हाल ही में सरकार के एजीआर बकाये को लेकर भी कंपनी चर्चा में थी। हालांकि कंपनी ने कहा कि उसने 13,000 करोड़ रुपये के एजीआर बकाये को अदा कर दिया है। कंपनी को 2019 में 1,332 करोड़ रुपये का नेट प्रॉफिट हुआ था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 प्रधानमंत्री आवास योजना में यूपी से भी आगे निकला आंध्र प्रदेश, गोवा में बने सिर्फ 100 घर
2 साक्षात्कारः टीम पर विश्वास ही स्टार्टअप की सफलता की कुंजी