ताज़ा खबर
 

टाटा की कंपनी को हुआ बड़ा मुनाफा, यहां मुकेश अंबानी की रिलायंस को मिलती है टक्कर

बीते दिनों टीसीएस का मार्केट कैपिटल रिलायंस से भी आगे निकल चुका था और इस मामले में भारत की सबसे बड़ी कंपनी बन गई थी।

mukesh ambani, reliance, tcsमार्केट कैपिटल के लिहाज से TCS, रिलायंस इंडस्ट्रीज को भी पीछे छोड़ चुकी है (Photo-PTI)

देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) को बड़ा मुनाफा हुआ है। मार्केट कैपिटल के लिहाज से ये कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को भी पीछे छोड़ चुकी है।

टीसीएस को मुनाफा कितना: टीसीएस का मुनाफा मार्च 2021 को समाप्त चौथी तिमाही में 14.9 प्रतिशत बढ़कर 9,246 करोड़ रुपये रहा। एक साल पहले 2019-20 की इसी तिमाही में कंपनी को 8,049 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। टीसीएस की आय 2020-21 की चौथी तिमाही (जनवरी-मार्च) में 9.4 प्रतिशत बढ़कर 43,705 करोड़ रुपये पर पहुंच गई जो एक साल पहले इसी तिमाही में 39,946 करोड़ रुपये रही थी।

पूरे वित्त वर्ष 2020-21 की बात करें तो टीसीएस का मुनाफा बढ़कर 33,388 करोड़ रुपये रहा जो एक साल पहले 32,340 करोड़ रुपये था। टीसीएस की आय 2020-21 में 4.6 प्रतिशत बढ़कर 1,64,177 करोड़ रुपये रही जो एक साल पहले 1,56,949 करोड़ रुपये थी। (ये पढ़ें—नवीन जिंदल खरीदेंगे ​अनिल अंबानी की कंपनी को!)

मार्केट कैपिटल में देती है टक्कर: टीसीएस मार्केट कैपिटल में मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को टक्कर देती रही है। बीते दिनों टीसीएस का मार्केट कैपिटल रिलायंस से भी आगे निकल चुका था और इस मामले में भारत की सबसे बड़ी कंपनी बन गई थी। वर्तमान में टीसीएस का मार्केट कैपिटल 11 लाख 50 हजार करोड़ रुपये है। अगर रिलायंस इंडस्ट्रीज की बात करें तो मार्केट कैपिटल 12 लाख 25 हजार करोड़ रुपये है।

रिटेल मार्केट में बढ़ने वाली है टेंशन: रिलायंस इंडस्ट्रीज के रिटेल कारोबार में भी टाटा ग्रुप की वजह से मुकेश अंबानी की टेंशन बढ़ने की आशंका है। असल में टाटा ग्रुप अपने कंज्यूमर बिजनेसेज को एक साथ लाते हुए एक ओम्नीचैनल डिजिटल प्लेटफॉर्म लॉन्च करने की योजना बना रहा है। इस प्लेटफॉर्म का नाम सुपर ऐप होगा। टाटा के इस कदम से मुकेश अंबानी की रिलायंस रिटेल की चुनौती बढ़ेगी।

आपको बता दें कि इसी साल टाटा समूह ने बिग बास्केट में 68 प्रतिशत हिस्सेदारी करीब 9,500 करोड़ रुपये में खरीदने का ऐलान किया था। बिग बास्केट, ऑनलाइन किराना सामान बेचने वाली कंपनी है। टाटा ग्रुप ने ये कदम ऐसे समय में उठाया जब रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप के बीच की डील कानूनी लड़ाई की वजह से अटकी हुई है। (ये पढ़ें—अनिल अंबानी का कारोबार चला रहे अडानी)

दरअसल, फ्यूचर ग्रुप के फ्यूचर कूपंस में अमेजन की हिस्सेदारी है। यही वजह है कि कंपनी ने रिलायंस और फ्यूचर ग्रुप की डील पर सवाल खड़े किए हैं और मामला कोर्ट तक पहुंच गया है। ये डील 24 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा की है।

Next Stories
1 इस कंपनी को खरीदने की रेस में थे गौतम अडानी, फिर रामदेव ने यूं जमाया कब्जा
2 जब अनिल अंबानी की डील पर बिड़ला परिवार को हुई आपत्ति, कोर्ट तक पहुंचा मामला
3 7th Pay Commission: कोरोना काल में बदल चुका है ये नियम, पेंशनर्स को होगा बड़ा फायदा
यह पढ़ा क्या?
X