ताज़ा खबर
 

भारत को स्टार्ट-अप क्षेत्र में ग्पलैल रैंक दिलाने में जुटी Reliance Industries

रिलायंस इंडस्ट्रीज मूल्यवान स्टार्ट-अप कंपनियां विकसित करने का वातावरण तैयार करने के लिए और पूंजी डालने को इच्छुक है ताकि भारत को...
Author मुंबई | September 11, 2015 18:04 pm

रिलायंस इंडस्ट्रीज मूल्यवान स्टार्ट-अप कंपनियां विकसित करने का वातावरण तैयार करने के लिए और पूंजी डालने को इच्छुक है ताकि भारत को 2022 तक इस क्षेत्र में इस्रायल और सिलिकॉन वैली (अमेरिका) की टक्कर का मंच बनाया जा सके।

आरआईएल के स्टार्ट-अप त्वरण कार्यक्रम ‘जेननेक्स्ट इनोवेशन हब’ ने माइक्रोसाफ्ट वेंचर्स के साथ भागीदारी की है और इस सप्ताह दूसरे चरण में 10 स्टार्टअप को शामिल किया है जिनमें दो इस्रायली कंपनियों को भी शामिल किया गया है।

आरआईएल नियंत्रित उद्यमपूंजी इकाई जेननेक्स्ट वेंचर्स के प्रबंधक भागीदार विवेक राय गुप्ता ने कहा, ‘हमने शुरूआती कदम बढ़ाया है और उम्मीद है कि हम अपने देश को 2022 तक सिलिकॉन वैली और इस्रायल के बराबर ला सकेंगे।’ उन्होंने हालांकि यह नहीं कहा कि कंपनी ने इस उद्देश्य से कंपनी ने कितनी राशि अलग रखी है या और कितना खर्च किया जा सकता है।

उन्होंने कहा, ‘हम यह सुनिश्चित करने के लिए इच्छुक हैं कि हमारे दायरे में वैश्विक कंपनियां हैं। हम विभिन्न संस्कृतियों से बहुत कुछ सीख सकते हैं जहां निवेश का तरीका अलग है।’ आरबीआई अपने कारोबारी दायरे में स्टार्ट-अप के लिए एक विशिष्ट मंच तैयार करना चाहती है तो करीब पांच अरब डालर का होगा।

गुप्ता ने कहा कि स्टार्ट-अप कंपनियों ने लाजिस्टिक्स, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन और कापरेरेट सुरक्षा जैसे क्षेत्रों में आरआईएल से जुड़ना शुरू कर दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App