ताज़ा खबर
 

150 अरब डॉलर की पूंजी वाली देश की पहली कंपनी बनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड

बंबई शेयर बाजार के सेंसेक्स में बड़ा वजन रखने वाली इस कंपनी का शेयर मूल्य शुरुआती दौर में 2.53 प्रतिशत बढ़कर 1,804.10 रुपए की रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंच गया।

Author नई दिल्ली | June 22, 2020 1:52 PM
Reliance Industries, RILकारोबारी मुकेश अंबानी। (PTI)

रिलायंस इंडस्टूीज लिमिटेड सोमवार (22 जून, 2020) को शेयर बाजार में कारोबार की शुरुआत तेजी के साथ होने पर 150 अरब डालर का बाजार पूंजीकरण हासिल करने वाले पहली भारतीय कंपनी बन गई। बंबई शेयर बाजार में सोमवार को कारोबार की शुरुआत में रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 28,248.97 करोड़ रुपये बढ़कर 11,43,667 करोड़ रुपये (150 अरब डालर) पर पहुंच गया।

बंबई शेयर बाजार के सेंसेक्स में बड़ा वजन रखने वाली इस कंपनी का शेयर मूल्य शुरुआती दौर में 2.53 प्रतिशत बढ़कर 1,804.10 रुपए की रिकार्ड ऊंचाई पर पहुंच गया। वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में भी यह 2.54 प्रतिशत बढ़कर 1,804.20 रुपए पर अब तक के सर्वोच्च स्तर पर पहुंच गया। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड इससे पहले शुक्रवार को 11 लाख करोड़ रुपए का बाजार पूंजीकरण का आंकड़ा पार करने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई थी।

कंपनी के चेयरमैन मुकेश अंबानी की तेल से लेकर दूरसंचार क्षेत्र में कारोबार करने वाली कंपनी के पूरी तरह से कर्ज मुक्त बन जाने की घोषणा के बाद बाजार में कंपनी का शेयर छह प्रतिशत से अधिक बढ़ गया और उसका बाजार पूंजीकरण 11 लाख करोड़ रुपए के आंकड़े को पार कर गया।

Coronavirus in India Live Updates

मुकेश अंबानी ने कहा कि राइट इश्यू के जरिए और प्रमुख वैश्विक निवेशकों को आंशिक हिस्सेदारी की बिक्री कर कंपनी ने पिछले दो माह के दौरान 1.69 लाख करोड़ रुपए जुटाए हैं जिसके बाद कंपनी शुद्ध रूप से कर्ज मुक्त हो गई। कंपनी ने एक चौथाई से भी कम हिस्सेदारी विभिन्न वैश्विक निवेशको को बेचकर 1.15 लाख करोड़ रुपए और राइट इश्यू के जरिए 53,124.20 करोड़ रुपए जुटाकर कुल 1.69 लाख करोड़ रुपए की पूंजी जुटा ली है। कंपनी का शेयर इस साल अब तक 19 प्रतिशत से अधिक चढ़ चुका है।

Next Stories
1 7th Pay Commission: निजी कंपनियों से भी एक कदम आगे निकला एसबीआई, कर्मचारियों को यह सुविधा देने की तैयारी
2 लॉकडाउन में आयुष्मान भारत स्कीम के तहत इलाज कराने वालों की संख्या 51 पर्सेंट तक घटी, जरूरी मेडिकल सेवाएं हुईं प्रभावित
3 पब्लिक प्रोविडेंट फंड पर ब्याज दर जा सकती है 7% से भी नीचे, 46 साल बाद आएगी इतनी बड़ी गिरावट
ये पढ़ा क्या?
X