ताज़ा खबर
 

ANIL AMBANI मुश्किल में, शेयरधारकों ने दी मुकदमा दर्ज करवाने की चेतावनी

Reliance Communications: इस शेयरधारक ने खुद को शहर का कॉर्पोरेट वकील बताया और उसका कहना था कि वह रिलायंस समूह की सात कंपनियों में से तीन में अपने शेयरों की 90 प्रतिशत से अधिक राशि गंवा चुका है जो कि लगभग 3 करोड़ रुपये होगी।

Author नई दिल्ली | Updated: October 1, 2019 9:20 AM
Reliance Capital,Reliance Communications,Anil Ambani,five Reliance Group firms,Reliance Group Companiesअनिल अंबानी (pc- financial express)

Reliance Capital, Anil Ambani, Reliance Group Companies: लगातार खराब प्रदर्शन की वजह से व्यापक तौर पर संपत्ति में आई कमी को देखते हुए अनिल अंबानी समूह की कंपनियों के शेयरधारकों ने प्रबंधन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने की चोतावनी दी है। सोमवार को यहां रिलायंस पावर की वार्षिक आम बैठक में एक शेयरधारक ने तो यहां तक चेतावनी दे दी कि अगर उसके उठाये गये मुद्दों का अगले दो से तीन महीने में हल नहीं निकाला जाता तो वह समूह की कंपनियों के खिलाफ देश का पहला क्लास एक्शन सूट (बहुत से धारक जब मिलकर याचिका दायर करते हैं) दायर कराने की चेतावनी दे दी। इस शेयरधारक का समर्थन वहां बैठे अन्य शेयरधारकों ने भी किया।

इस शेयरधारक ने खुद को शहर का कॉर्पोरेट वकील बताया और उसका कहना था कि वह रिलायंस समूह की सात कंपनियों में से तीन में अपने शेयरों की 90 प्रतिशत से अधिक राशि गंवा चुका है जो कि लगभग 3 करोड़ रुपये होगी। हालांकि इस बीच कंपनी के अधिकारियों ने नियमों का हवाला देते हुए उन्हें बोलने से रोकने की कोशिश की लेकिन अंबानी ने उन्हें अपनी बात जारी रखने को कहा।

बता दें कि दिवालिया प्रक्रिया से गुजर रही रिलायंस कम्युनिकेशंस की वार्षिक आम बैठक में कंपनी के भविष्य को लेकर चिंता छाई रही। निवेशकों ने कंपनी के दिवालिया होने और उसके भविष्य को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर की। कंपनी की वार्षिक आम बैठक को पहली बार अदालत द्वारा नियुक्त समाधान पेशेवर ने संबोधित किया। सलाहकार फर्म डेलायट के अनीष नानावटी ने बैठक में शेयरधारकों को सूचित किया कि राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने कंपनी की दिवाला प्रक्रिया को पूरा करने के लिये तीन माह का अतिरिक्त समय दिया है। यह प्रक्रिया अब अगले साल 10 जनवरी तक पूरी हो जायेगी।

नानावटी कंपनी के लिये बोली आमंत्रित करने का काम प्रक्रिया में है और बोली प्रक्रिया में पूरी कंपनी को खरीदने वाली बोली को ही प्राथमिकता दी जायेगी। उन्होंने शेयरधारकों को बताया कि कंपनी को उसके सभी रिणदाताओं से कुल मिलाकर 84,628 करोड़ रुपये का दावा मिला है। रिलायंस अनिल धीरुभाई अंबानी समूह के एक अन्य कंपनी रिलायंस पावर ने अपने कोयला आधारित बिजली संयंत्रों में फल्यू-गैस डिसलफयूराजेशन (एफजीडी) स्थापित करने के लिये 4,000 करोड़ रुपये के पूंजी व्यय की योजना बनाई है।

कंपनी की 25वीं वार्षिक आम बैठक को संबोधित करते हुये चेयरमैन अनिल अंबानी ने सोमवार को कहा कि कंपनी हरित और स्वच्छ ऊर्जा की अपनी रणनीति के तहत सौर, पवन ऊर्जा जैसी नवीकरणीय ऊर्जा परियोजनाओं पर गौर करेगी। इसके अलावा बायोमास और जैव ईंधन जैसे अपशिष्ट से विद्युत उत्पादन के क्षेत्र में भी पहल करेगी। समूह की एक अन्य कंपनी रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर (आरइंफ्रा) पर 6,000 करोड़ रुपये का कर्ज है। कंपनी ने सोमवार को कहा है कि वह अपने कर्ज को कम करने के रास्ते पर आगे बढ़ रही है।

Next Stories
1 कॉरपोरेट के बाद अब मिडल क्लास की बारी, दिवाली से पहले INCOME TAX में छूट की मिल सकती है सौगात
2 भारतीय बैंकिंग सिस्टम पर मूडीज ने दी बड़ी चेतावनी, 13 अर्थव्यवस्थाओं में बताया सबसे असुरक्षित
3 अर्थव्यवस्था का बुरा दौर जारी! 8 बुनियादी उद्योगों के उत्पादन में अगस्त में साढ़े 3 साल की सबसे बड़ी गिरावट
आज का राशिफल
X