मुकेश अंबानी के समधी अजय पीरामल ने 34 हजार करोड़ में खरीद लिया डीएचएफएल, जानें बैंकों को कैसे होगा फायदा

पीरामल एंटरप्राइजेज ने आईबीसी के तहत दिवालिया घोषित डीएचएफएल का 34 हजार करोड़ से अधिक के सौदे में अधिग्रहण कर लिया है। अजय पीरामल मुकेश अंबानी के समधी हैं।

Piramal DHFL Deal
डीएचएफएल के इस सौदे से बैंकों को फायदा होने की उम्मीद है। (Photo Source: PTI)

रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) के समधी अजय पीरामल (Ajay Piramal) ने 34 हजार करोड़ रुपये से अधिक के एक सौदे में डीएचएफएल (DHFL) को खरीद लिया है। पीरामल समूह (Piramal Group) के प्रमुख ने इस सौदे के लिए 14,700 करोड़ रुपये का नकद भुगतान किया है। इस सौदे से विभिन्न बैंकों को कर्ज के फंसे पैसे वापस मिलने की उम्मीद है।

पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड (Piramal Enterprises Ltd) ने बुधवार को कहा कि उसने बैंकरप्ट घोषित दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड का अधिग्रहण कर लिया है। पीरामल एंटरप्राइजेज ने बताया कि रिजॉल्यूशन प्लान के हिसाब से डीएचएफल के कर्जदाताओं को 14,700 करोड़ रुपये का नकद भुगतान किया गया है।

34,250 करोड़ में हुआ है DHFL सौदा

आपको बता दें कि यह पूरी डील 34,250 करोड़ रुपये में हुई है। इसमें 14,700 करोड़ रुपये नकदी के अलावार नॉन कंवर्टिबल डिबेंचर (NCD) भी शामिल हैं। रिजॉल्यूशन प्लान के तहत पीरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड ने 19,550 करोड़ रुपए का डिबेंचर जारी किया है। ये डिबेंचर 10 सालों के लिए 6.75 फीसदी की दर पर जारी किए गए हैं।

बैंकिंग सेक्टर के लिए सकारात्मक है DHFL सौदा

इस सौदे को बैंकिंग सेक्टर के लिए सकारात्मक माना जा रहा है। इस सौदे में डीएचएफल को कर्ज देने वाले बैंकों को 3,800 करोड़ रुपये नकद में मिल गए हैं। यह नकदी डीएचएफएल के पास पड़ी थी। इस तरह डीएचएफल के कर्जदाताओं को इस सौदे से कुल 38,050 करोड़ रुपये मिलेंगे। इस सौदे को दिवाला एवं ऋणशोधन अक्षमता संहिता के तहत अब तक का सबसे बड़ा रिजॉल्यूशन बताया जा रहा है।

अजय पीरामल ने एक ऑनलाइन प्रेस कांफ्रेंस में बताया कि इस रिजॉल्यूशन के चलते डीएचएफएल में बैंकों के फंसे करीब 46 फीसदी पैसे रिकवर हो जाएंगे। कंपनी का नाम बदलकर पीरामल कैपिटल हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड (PCHFL) हो जाएगा. डीएचएफएल का पीसीएचएफएल में विलय कर दिया जाएगा।

PCHFL होगा नई कंपनी का नाम

उल्लेखनीय है कि विलय के बाद सामने आने वाली कंपनी पीसीएचएफएल के पास 10 लाख से अधिक ग्राहकों का एक्सेस होगा। कंपनी 301 शाखाओं और 2,338 कर्मचारियों के साथ देश के 21 राज्यों में मौजूद होगी। कंपनी की योजना आने वाले समय में एक हजार नए कर्मचारी बहाल करने की है। इसके अलावा कंपनी अगले पांच साल में शाखाओं की संख्या भी एक हजार से अधिक करना चाहती है।

इसे भी पढ़ें: अक्टूबर में 21 दिन की छुट्टियों से पहले आज से तीन दिनों की हड़ताल पर हैं इस बैंक के कर्मचारी, जानिए कारण

96 हजार करोड़ का कर्ज लेकर दिवालिया हो गई थी DHFL

डीएचएफएल के ऊपर विभिन्न बैंकों व वित्तीय कंपनियों के करीब 96 हजार करोड़ रुपये बकाया हैं। इनमें सबसे अधिक 7,267 करोड़ रुपये का बकाया भारतीय स्टेट बैंक (SBI) का है। इसी तरह बैंक ऑफ इंडिया (Bank Of India) के 4,125 करोड़ रुपये और यूनियन बैंक ऑफ इंडिया (Union Bank Of India) के 3,605 करोड़ रुपये बकाया हैं।

पढें व्यापार समाचार (Business News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट