ताज़ा खबर
 

Paytm से MobiKwik में भेज सकेंगे पैसे! ई-वॉलेट के बीच मनी ट्रांसफर के लिए RBI ने उठाया बड़ा कदम

भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार को अलग-अलग मोबाइल वालेट के बीच लेनदेन को आसान बनाने के लिए दिशानिर्देश जारी किए।

Author October 17, 2018 12:27 PM
प्रतीकात्मक तस्वीर

भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार को अलग-अलग मोबाइल वॉलेट के बीच लेनदेन को आसान बनाने के लिए दिशानिर्देश जारी किए। इसका मकसद डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देना है। वर्ष 2017 में डिजिटल भुगतान के लिए तैयार की गई रूपरेखा में ‘अपने ग्राहक को जानो’ (केवाईसी) नियम का अनुपालन करने वाले सभी प्रीपेड भुगतान मंचो (पीपीआई) के बीच अंतरपरिचालन को तीन चरणों में लागू करने की बात कही गई थी। मोबाइल वालेटों के बीच यूपीआई के माध्यम से अंतरपरिचालन किया जा सकता है। वालेट और बैंक खातों के बीच भी अंतरपरिचालन ‘यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस’ (यूपीआई) के माध्यम से किया जा सकता है। रिजर्व बैंक ने एकीकृत दिशानिर्देश जारी कर सभी चरणों के अंतरपरिचालन को लागू करने की तैयारी करने के आदेश दिए हैं।

बता दें कि हमारे यहां मोबीक्विक, ऑक्‍सीजन, पेटीएम, इट्जकैश और ओला मनी जैसे एप हैं जिनका लोग डेली तौर पर उपयोग करते हैं। रिजर्व बैंक के निर्णय के बाद अब इस तरह के एप प्रयोग कर रहे यूजर्स की राह और भी आसान हो गई है। मौजूदा समय में एक मोबाइल वॉलेट से ग्राहक दूसरी कंपनी द्वारा संचालित वॉलेट में न तो पैसे भेज सकता है और न ही उससे हासिल कर सकते हैं। लेकिन आरबीआई की नई गाइडलाइन के बाद आब पेटीएम से आप मूवीक्विक के वॉलेट में पैसे भेज सकेंगे और मूवीक्विक से पेटीएम में। यह आरबीआई का बड़ा कदम है जो मोबाइल वॉलेट यूजर्स के लिए कारगर होगा।

पेटीएम के CEO किरण वासीरेड्डी ने भारत में पेमेंट ईकोसिस्‍टम को एक बेहद ही सराहनीय कदम बताया है। इस नई गाइडलाइंस के साथ पीपीआई ईकोसिस्‍टम अब और भी मजबूत बनेगा। इसके अलावा पेटीएम और मूवीक्वीक के यूजर्स के लिए भी आसानी होगी।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 सरकारी बैंकों के बोर्ड्स से अपने निदेशक हटाना चाहता है रिजर्व बैंक, केंद्र सरकार ने ठुकराई मांग
2 GPF Interest Rate 2018-19: अब सरकार ने जीपीएफ पर बढ़ाई ब्याज दर, मिलेगा ज्यादा पैसा
3 7th Pay Commission: इस राज्य सरकार ने एक साल में दो बार बढ़ाई अपने कर्मचारियों की सैलरी!