scorecardresearch

सचिन बंसल की कंपनी समेत 6 बैंकिंग लाइसेंस के आवेदन को RBI ने कर दिया खारिज, जानें- वजह

आरबीआई ने एक बयान में कहा कि बैंकिंग लाइसेंस दिशानिर्देशों के तहत निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार, अब छह आवेदनों की जांच पूरी कर ली गई है।

Reserv Bank Of India | Banking License
सांकेतिक फोटो।

भारतीय रिजर्व बैंक ने 6 बैंकिंग लाइसेंस के आवेदन को खारिज कर दिया है। इनमें लघु वित्त बैंकों की स्थापना से संबंधित एप्लीकेशन भी हैं। पीटीआई की एक खबर के अनुसार, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इसके पीछे का कारण स्‍पष्‍ट करते हुए कहा कि इन एप्लीकेशन को उपयुक्त नहीं पाए जाने के बाद खारिज कर दिया गया है।

आरबीआई ने एक बयान में कहा कि दिशानिर्देशों के तहत निर्धारित प्रक्रिया के अनुसार, अब छह आवेदनों की जांच पूरी कर ली गई है। कहा कि आवेदन के मूल्यांकन के आधार पर इन आवेदकों को बैंक स्थापित करने के लिए सैद्धांतिक मंजूरी देने के लिए उपयुक्त नहीं पाया गया।

इन कंपनियों के आवेदन हुए रिजेक्‍ट
केंद्रीय बैंक ने कहा कि लाइसेंस के लिए आवेदन रद्द करने में यूएई एक्सचेंज एंड फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड, प्रत्यावर्तन सहकारी वित्त और विकास बैंक लिमिटेड (REPCO बैंक), सचिन बंसल की कंपनी चैतन्य इंडिया फिन क्रेडिट प्राइवेट लिमिटेड के साथ पंकज वैश्य और अन्य शामिल हैं। इसके अलावा लघु वित्त बैंकों के ‘ऑन टैप’ लाइसेंसिंग के लिए उपयुक्त नहीं पाए गए में वीसॉफ्ट टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लिमिटेड और कालीकट सिटी सर्विस को-ऑपरेटिव बैंक लिमिटेड भी शामिल हैं।

रिजर्व बैंक को मिले थे कुल 11 आवेदन
रिज़र्व बैंक को यूनिवर्सल बैंकों और लघु वित्त बैंकों के ‘ऑन टैप’ लाइसेंसिंग के दिशानिर्देशों के तहत बैंक स्थापित करने के लिए 11 आवेदन प्राप्त हुए थे। हालाकि इसमें से अभी तक केवल 6 आवेदनों के ही लाइसेंस की जांच की गई है।

इन आवेदनों की नहीं हुई है जांच
बचे हुए अन्‍य आवेदनों की जांच की जा रही है, जल्‍द ही और आवेदनों की जांच की जाएगी। बचे हुए पांच लाइसेंस के लिए आवेदन में वेस्ट एंड हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड, अखिल कुमार गुप्ता, द्वार क्षेत्र ग्रामीण फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, कॉस्मिया फाइनेंशियल होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड, और टैली सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड शामिल हैं।

पढें व्यापार (Business News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट