ताज़ा खबर
 

नोटबंदी पर आरबीआई गवर्नर का पीएसी को जवाब, सरकार के साथ बातचीत 2016 के आरंभ में शुरू हो गयी थी

सूत्रों के मुताबिक पटेल ने वित्त पर संसद की स्थाई समिति को नोटबंदी के विषय पर बताया कि रिजर्व बैंक और सरकार के बीच बातचीत पिछले साल की शुरुआत से चल रही थी।

Author नई दिल्ली | January 18, 2017 20:38 pm
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया गवर्नर उर्जित पटेल। (Source: PTI)

समझा जाता है कि भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने नोटबंदी पर संसदीय समिति को बताया कि इस प्रक्रिया पर रिजर्व बैंक और सरकार के बीच बातचीत पिछले साल के आरंभ में शुरू हो गयी थी। सूत्रों ने कहा कि समिति में कांग्रेस के सदस्यों ने कई तरह के प्रश्न किये, मसलन बड़े नोटों को समाप्त करने का फैसला किसका था। उन्होंने आरबीआई की स्वायत्तता के संबंध में भी सवाल किया। हालांकि सूत्रों के अनुसार कांग्रेस नेता वीरप्पा मोइली की अध्यक्षता वाली समिति के भाजपा सदस्यों ने बैठक में ज्यादा सवाल नहीं उठाये। समिति के सवालों में यह भी शामिल था कि नोटबंदी की अवधि के दौरान कितनी राशि वापस आई और 500 तथा 2000 रुपए के कितने नये नोट छापे गये हैं और बैंकों को भेजे गये हैं। यह भी समझा जाता है कि नोटबंदी को बड़ी विफलता बताने वाले समिति के सदस्य मनमोहन सिंह ने भी इस मुद्दे पर प्रश्न पूछा।

सूत्रों के मुताबिक पटेल ने वित्त पर संसद की स्थाई समिति को नोटबंदी के विषय पर बताया कि रिजर्व बैंक और सरकार के बीच बातचीत पिछले साल की शुरुआत से चल रही थी। सूत्रों ने बताया कि वित्त मंत्रालय ने बैठक में उठाये गये प्रश्नों का जवाब देने के लिए समिति से समय मांगा है। बैठक में वित्त सचिव ने समिति के समक्ष एक प्रस्तुतिकरण दिया। सूत्रों ने कहा कि सदस्य जवाबों से बहुत संतुष्ट नहीं दिखाई दिये। देश में 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले पर और उसके असर पर बातचीत के लिए यह महत्वपूर्ण बैठक बुलाई गयी थी। आरबीआई गवर्नर 20 जनवरी को इसी मुद्दे पर संसद की लोक लेखा समिति (पीएसी) के समक्ष भी पेश हो सकते हैं।

पूर्व प्रधानंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने नोटबंदी को लेकर पीएम मोदी पर साधा निशाना; कहा- “सबसे बुरा होना अभी बाकी है"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App